मंत्र सिद्धि व पूजा -पाठ में भय की अनुभूति होने पर सुरक्षा चक्र कैसे बनाये ?

By | October 12, 2017

कभी -कभी मंत्र सिद्धि के समय या फिर किसी विशेष पूजा -पाठ के समय भय की अनुभूति होने लगती है | ऐसे में साधक को बाहरी शक्तियां परेशान करने लगती है | सभी मंत्र सिद्धि में ऐसा नहीं होता है किन्तु कुछ मंत्र ऐसे होते है जिन्हें सिद्ध करते समय साधक से आस -पास नकारात्मक शक्तियां अपना प्रभाव दिखाना प्रारंभ कर देती है | मंत्र सिद्धि के साथ – साथ कुछ पूजा -पाठ भी ऐसे होते है जो किसी विशेष बाधा निवारण के उद्देश्य से किये जाते है ऐसे में इन पूजा -पाठ को करते समय साधक यदि अपने आस -पास सुरक्षा चक्र नहीं बनाता है तो बाहरी शक्तियां अहित पहुंचा सकती है | प्रत्येक साधक को मंत्र oसिद्धि व पूजा -पाठ के समय भय की अनुभूति न हो इसके लिए पहले ही सुरक्षा चक्र बना लेना चाहियें |  ⇒ || हनुमान जी के साक्षात् दर्शन के लिए इस शाबर मंत्र द्वारा करें साधना || ⇐

ऐसी मंत्र सिद्धियाँ , जिनमें भय की अनुभूति सामान्य से अधिक होती है : –

किसी भी देव मंत्र को सिद्ध करते समय जब मंत्र सिद्ध होने लगते है तो प्रारम्भ में अधिकतर साधक अपने आस -पास उस दैवीय शक्ति को डर या भय के रूप में देखने लगते है | किन्तु वास्तव में ये शक्तियां साधक को किसी प्रकार का अहित पहुचाने नहीं बल्कि यह अहसास कराना चाहती है कि साधक अपनी साधना में सफलता की ओर बढ़ रहा है | 

मंत्र सिद्धि व पूजा -पाठ में भय की अनुभूति होने पर सुरक्षा चक्र कैसे बनाये

कुछ मंत्र साधनाएँ (सिद्धियाँ ) ऐसी भी होती है तो जो पूर्ण रूप से साधक को साधना करने से रोकती है | ये नकारात्मक प्रकति की हो सकती है | इस प्रकार की साधना में प्रथम दिन से ही भय की अनुभूति होने लगती है | ऐसे में साधक का बिना किसी सुरक्षा चक्र व गुरु की देख -रेख में साधना करना उसके जीवन के लिए खतरनाक हो सकता है | इन खतरनाक सिद्धियों में : वो सभी सिद्धियाँ आती है तो तांत्रिक प्रकति की होती है और जिनको किसी एकांत जगह पर किया जाता हो | इसके अतिरिक्त : तांत्रिक भैरव सिद्धि , महाकाली सिद्धि , यक्षिणी साधना , अप्सरा साधना ऐसी बहुत सिद्धियाँ है जिनको बिना सुरक्षा चक्र और बिना गुरु के करना खतरनाक हो सकता है |

पूजा -पाठ के समय भय की अनुभूति : – 

धरम शास्त्रों के अनुसार सभी पूजा -पाठ शुभ फल देने वाले होते है | देवों का आशीर्वाद पाने के साथ – साथ विशेष कार्य की सिद्धि के लिए भक्तों द्वारा समय -समय पर पूजा -पाठ का आयोजन किया जाता है | जब कभी व्यक्ति किसी (बाहरी पीड़ा व बाधा )नकारात्मक शक्ति की गिरफ्त में आ जाता है तो ऐसे में विशेष पूजा -पाठ का आयोजन कर अपने कष्टों का निवारण करता है | इस प्रकार की विशेष पूजा -पाठ में पूजा के समय नकारात्मक शक्ति किसी भी समय अपना प्रभाव दिखा सकती है | इसलिए इस प्रकार की पूजा से पहले सुरक्षा चक्र बनाना अति अनिवार्य हो जाता है |

पूजा -पाठ के समय सुरक्षा चक्र बनाने की विधि :- 

मंत्र सिद्ध करते समय या पूजा -पाठ से समय सुरक्षा चक्र बनाने के लिए पूजा पर बैठने से पहले एक पताशे में छोटा सा  छेद करके उसमें पूजा में प्रयोग होने वाला सिन्दूर डाल ले | अब इस पताशे को अपने आसन के नीचे रख दे | और फिर आसन पर बैठ जाये , आपके बैठने से पताशा टूट जायेगा, यह ध्यान देने की आवश्यकता नहीं है | आसन पर बैठने के पश्चात् हाथ में थोडा जल लेकर अपने चारों तरफ घुमा कर डाल दे | अब आप पूजा शुरू कर सकते है | किसी भी प्रकार की नकारात्मक शक्ति अब आपको परेशान नहीं करेगी |

⇒ || टोना टोटका और किये कराये का अचूक इलाज || ⇐

पूजा से उठने के पश्चात् इस टूटे हुए पताशे और सिन्दूर को एक गिलास पानी में डालकर घर से बाहर डाल दे | मंत्र सिद्धि और पूजा -पाठ में भय की अनुभूति होने पर इस सुरक्षा चक्र का प्रयोग साधक को अवश्य करना चाहिए | मंत्र सिद्धि और विशेष पूजा -पाठ को किसी अनुभवी गुरु की देख -रेख में करना अधिक उचित होता है |

⇒ || पूजा -पाठ का सम्पूर्ण फल पाने के लिए , इस प्रकार संकल्प लेना है जरुरी || ⇐

 


 

 

770 total views, 13 views today

Related posts:

माँ Baglamukhi Mantra को सिद्ध करें ! जानियें, सरल व संशिप्त विधि |
Hanuman Chalisa ko ek hi din me Sidhh karen || हनुमान चालीसा को एक ही दिन में सिद्ध करने की पूर्ण ए...
रात्रि में की गयी बजरंग बाण की यह सिद्धि, तंत्र का काम करती है |
बटुक भैरव मंत्र साधना | भैरव मंत्र सिद्धि |
महाकाली शाबर मंत्र सिद्धि | इस शाबर मंत्र से माँ काली को शीघ्र प्रसन्न करें |
स्त्रियाँ मंत्र साधना किस प्रकार करें ? क्या स्त्रियाँ हनुमान साधना कर सकती है ?
हनुमान जी के साक्षात् दर्शन के लिए इस शाबर मंत्र द्वारा करें साधना |
जानिए, मंत्र सिद्धि के समय मंत्र जप की सही विधि | मंत्र साधना के नियम |

2 thoughts on “मंत्र सिद्धि व पूजा -पाठ में भय की अनुभूति होने पर सुरक्षा चक्र कैसे बनाये ?

  1. Raj Kumar sharma

    Guru ji ham ne aap ke YouTube channel ko sabcrib kar leya ha aap kafe good jankare dete ho guru ji mane inderjaal ke book pare the usme lekha the ke vashekaran ke leye bhar ke chmre ka aasan Lena chchey to kya shabhar mantra vashekaran ma bhe bhar ke chmre ka aasan use Karna cheye kya please margdarshan Kare guru ji dhyanwad

    Reply
    1. TARUN SHARMA Post author

      राज कुमार जी आप क्या कहना चाहते है ठीक से सम्मझ नही आ रहा है, आप आचार्य जी से फ़ोन द्वारा सीधे संपर्क करें :- 07027140920

      वे आपका मार्गदर्शन अवश्य ही करेंगे
      धन्यवाद्

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *