मंदिर में हनुमान जी मूर्ति को स्पर्श करना सही या गलत !

By | May 23, 2021

कलियुग के समय में सबसे अधिक पूजे जाने वाले देवों में से एक हनुमान जी है | जो भक्त सच्चे मन से हनुमान जी की भक्ति करते है वे सदैव सुखी जीवन व्यतीत करते है | अन्य देवों की तुलना में हनुमान जी की भक्ति करना थोड़ी कठिन है | क्योंकि उनकी भक्ति के कुछ नियम है जिनका पालन न करने पर उचित फल की प्राप्ति नहीं होती |

हनुमान जी का सम्पूर्ण जीवन भगवान श्री राम को समर्पित रहा है | वे इस धरा पर सबसे बड़े व सच्चे भक्त के रूप में जाने गये है | इसलिए उनको भी ऐसे ही भक्त पसंद आते है जिनका भक्ति भाव सच्चा है जिनकी भक्ति सच्ची है और उनका जीवन मर्यादा में है | ऐसे भक्त ही सही अर्थ में हनुमान जी भक्त कहलाने योग्य है |

हनुमान जी मूर्ति स्पर्श

हनुमान जी मूर्ति को स्पर्श करना शुभ या अशुभ :

अन्य देवों की तुलना में हनुमान जी मूर्ति को हर कोई व्यक्ति स्पर्श नहीं कर सकता है | विशेष रूप से जो मूर्ति मंदिर में स्थापित है जिन पर चौला चढ़ाया जाता है उस मूर्ति को स्पर्श करने के लिए आपको हनुमान जी का सच्चा भक्त बनाना होगा | जो भक्त ढ़ोंग करते है भक्ति के नाम पर, उन्हें चौला चढाते है, ऐसे भक्त हनुमान जी की कृपा कभी प्राप्त नहीं कर सकते | जी हाँ, यदि आपको लगता है कि आप हनुमान जी के सच्चे भक्त है और आपका जीवन मर्यादा में है तो आप हनुमान जी की प्रतिमा को छू सकते है, उन्हें चौला चढ़ा सकते है |

आइये जानते है ऐसे कौन-कौन लोग है जिनको भूलकर भी हनुमान जी की प्रतिमा को स्पर्श नहीं करना चाहिए |

  • ऐसे लोग जो मासं-मदिरा का सेवन करते है | उनके लिए हनुमान जी भक्ति व्यर्थ है | ऐसे लोग यदि हनुमान जी की पूजा करते है तो उन्हें विपरीत परिणाम भी प्राप्त हो सकते है |
  • ऐसे लोग जो अपनी पत्नी के अतिरिक्त अन्य महिलाओं से सम्बन्ध बनाते है, ऐसे व्यक्ति भी हनुमान जी की पूजा करने योग्य नहीं है और न ही उनकी प्रतिमा को छूने योग्य |
  • ऐसे लोग जिनका मन चंचल है | जिनका सम्बन्ध अपनी पत्नी के अतिरिक्त किसी अन्य महिला के साथ नहीं है किन्तु वे अन्य स्त्रियों को वासना की द्रष्टि से देखते है या ऐसे विचार लाते है उन्हें भी हनुमान जी की मूर्ति को स्पर्श नहीं करना चाहिए |
  • यदि आप विद्यार्थी है और किसी लड़की के साथ सम्बन्ध बनाते है या लड़कियों को देखकर मन में वासना जैसे विचार लाते है तो आपके लिए भी हनुमान जी मूर्ति को स्पर्श करना वर्जित है |
  • बुरे व पाप कर्म करने वाले व्यक्ति भी हनुमान जी की मूर्ति को स्पर्श न ही करें तो उनके लिए अच्छा है |

यदि आप हनुमान जी की भक्ति करते है और स्वयं को थोड़ा भी ऐसा समझते है कि आपका जीवन मर्यादा में नहीं है तो हनुमान जी की मूर्ति को आप स्पर्श न करें, उनके चरणों का सिन्दूर से तिलक न करें | यदि आप हनुमान जी को चौला अर्पित करना चाहते है तो मंदिर में पुजारी को चौला चढाने की सामग्री देकर दूर से ही हनुमान जी को प्रणाम करें |