घर में नकारात्मक उर्जा का पता इस प्रकार लगाये

इस धरा पर दो तरह की उर्जा हर समय अपने प्रभाव में रहती है | ये दो तरह की उर्जा जिसमें एक सकारात्मक उर्जा तो दूसरी नकारात्मक उर्जा | ये दोनों तरह की उर्जा अलग-अलग प्रकार से सभी सजीव वस्तुओं पर अपना प्रभाव दिखाती है | जिस स्थान पर सकरात्मक उर्जा होती है वहां नकारात्मक उर्जा नहीं होती… Read More »

भूत-प्रेत दूर भगाए ! इस ताबीज को गले में धारण करें

भूत-प्रेत जैसी नकारात्मक शक्तियाँ हमारे बीच ही इस धरा पर विद्यमान होती है | इनका प्रभाव अधिकतर ऐसे स्थानों पर होता है जहाँ लोगों का आना-जाना कम होता हो या जिस स्थान पर साफ़-सफाई न होती हो | जिस स्थान पर तांत्रिक गतिविधियाँ होती है उस स्थान पर भी ये विद्यमान होते है | जहाँ समाज का अधिकतर… Read More »

भैरव के 7 चमत्कारिक मंत्र ! मंत्र द्वारा भैरव उपासना

भैरव बाबा अपने भक्तों पर शीघ्र प्रसन्न होकर उन्हें फल प्रदान करते है | सभी प्रकार की नकारात्मक शक्तियों से मुक्ति पाने के लिए व स्वयं को और अपने परिवार को ऊपरी बाधाओं से सुरक्षित रखने में भैरव आराधना चमत्कारिक परिणाम देने वाली है | यूँ तो सभी भक्त अपने-अपने श्रद्धा भाव से भिन्न-भिन्न प्रकार से भैरव आराधना… Read More »

भैरव जी और हनुमान जी का नाम सुनते ही भूत क्यों भागने लगते है ?

तन्त्र विद्या में भैरव जी को एक विशेष देव स्थान प्राप्त है | अनेक तांत्रिक भैरव जी की शक्ति प्राप्त करके उनकी सिद्धि शक्ति से भूतों को भगाने में सफल होते है | भूत विद्या में भैरव शक्ति सबसे उपयोगी मानी जाती है | भैरव जी का काला रूप ही भूतों को भगाने का साधन माना गया है… Read More »

भैरव के 108 नाम द्वारा भैरव उपासना

कलियुग में भैरव बाबा की उपासना आपके सभी दुखों-कष्टों को दूर करने में फलदायी मानी गयी है | तंत्र शास्त्र में भी भैरव बाबा को प्रमुख माना गया है | यद्यपि सभी भैरव भक्त अपने-अपने श्राद्ध भाव द्वारा भैरव उपासना करते है और उन्हें प्रसन्न करने का यत्न करते है | लेकिन किसी भी देव आराधना में सबसे… Read More »

गुरु दशा में हल्दी गांठ का महत्व व हरिद्रा गणपति

हल्दी को ब्रहस्पति(गुरु) का मूल माना जाता है | ब्रहस्पति(गुरु) से अधिक शुभ गृह दूसरा नहीं है | जन्मकुंडली में ब्रहस्पति थोडा भी शुभ स्थिति में है और जातक को उसकी महादशा मिल जाए तो व्यक्ति उस दशा में चौतरफा उन्नति करता है | वैसे अधिकतर पाया जाता है कि यदि ब्रहस्पति(c)शुभ नहीं है तब भी उसकी महादशा… Read More »

भगवान शिव- सिद्ध तांत्रिक यंत्र ! हर प्रकार के कार्य सिद्ध करने का अचूक उपाय

भगवान शिव का यह तांत्रिक यंत्र स्वयं में असीमित शक्तियां रखता है | हमारे शास्त्रों में यंत्र द्वारा पूजा का विशेष महत्व माना जाता है | भगवान शिव के इस तांत्रिक यंत्र/Shiv Tantrik Yantra द्वारा उनकी आराधना करने से जातक के हर प्रकार के कार्य सिद्ध होने लगते है, चाहे वह कार्य मनोकामना पूर्ति हेतु हो या फिर… Read More »

भगवान शिव पंचाक्षर स्त्रोत पाठ | भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए इस पाठ द्वारा करें उनकी आराधना

भगवान शिव की पूजा सर्वोपरि है | सभी पापों व कष्टों को दूर करने वाले भगवान भोलेनाथ की आराधना यूँ तो सभी भक्त अपने-अपने तरीकों से करते है | किन्तु कुछ शास्त्रवत ऐसे उपाय भी है जिन्हें करने से भगवान शिव की विशेष कृपा प्राप्त होती है | पंचाक्षर स्त्रोत पाठ द्वारा भगवान शिव की आराधना करना उनकी… Read More »

Liver को स्वस्थ रखने के आसन | लीवर को ठीक रखने के best योगासन

शरीर के सभी अंगों में सबसे अधिक महतवपूर्ण स्थान लीवर को माना गया है | लीवर पाचन क्रिया में सबसे अधिक भूमिका निभाता है | यह भोजन से पाचक रस द्वारा सभी प्रकार के विटामिन्स व प्रोटीन आदि का निर्माण करता है | शरीर में होने वाली हर बीमारी कहीं न कहीं लीवर से जुड़ी होती है |… Read More »

3 मुखी रुद्राक्ष धारण करने की विधि एवं लाभ

तीन मुखी रुद्राक्ष में ब्रह्मा, विष्णु और महेश तीनों आदि शक्तियों का वास है | इसे धारण करने वाला जातक त्रिदेवों से आशीर्वाद पाता है | तीन मुखी रुद्राक्ष में अग्नि तत्व की प्रधानता है | अग्नि तत्व जो कि पंच तत्वों में भी प्रधान तत्व माना गया है | अग्नि तत्व की प्रमुखता के कारण तीन मुखी… Read More »