अघोर साधना क्या है ? अघोर साधना से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य !

हिन्दू धर्म में एक “शैव संप्रदाय” है जो “शिव साधक” से सम्बंधित है। इसी सम्प्रदाय में साधना की एक रहस्यमयी शाखा है “अघोरपंथ” जिसका पालन करने वालों को अघोरी कहते हैं।  अघोरी साधक को इस संसार में शिव भगवान का ही रूप माना गया है | अघोरी साधक की वेशभूषा व जीवनशैली बहुत ही कठिन होती है |… Read More »

पिता और बेटी का रिश्ता !

पिता ऑफिस से घर आकर आराम से कमरे में विश्राम कर रहे थे तभी उनकी 11 साल की बेटी उनसे कहती है पापा मैंने आपके लिए हलवा बनाया है | पिता – वाह क्या बात है, लाकर खिलाओ फिर पापा को !! बेटी दौड़ती हुई फिर रसोई में गयी और बड़ा कटोरा भरकर हलवा लेकर आई | पिता… Read More »

अगर आप शराब छोड़ना चाहते है तो ये तरीके अपनाये

आज समाज में शराब की लत सबसे बड़ी बुरी लत के रूप में ऊभर रही है | जहाँ कुछ लोग शराब का सेवन शौक के रूप में करते है तो वही बहुत से लोगों को इसकी बुरी तरह से लत लग चुकी है | ऐसे व्यक्ति खाना खाए बिना तो रह सकते है किन्तु बिना शराब पीये नहीं… Read More »

2 मुखी रुद्राक्ष को धारण करने की विधि – लाभ और सिद्ध करने की विधि

2 मुखी रुद्राक्ष को साक्षात् भगवान शिव और पार्वती का स्वरुप कहा गया है | यह रुद्राक्ष बहुत ही दुर्लभ और कल्याणकारी माना गया है | इस रुद्राक्ष को देवेश्वर भी कहा गया है | शिवमहापुराण के अनुसार इस रुद्राक्ष को धारण करने से ब्रह्म हत्या और गाय हत्या जैसे पापों से मुक्ति मिलती है | दो मुखी… Read More »

नवरात्रि में इस प्रकार करें माँ दुर्गा पूजा ! नवरात्रि में ध्यान रखने योग्य बातें और मंत्र साधना विधि

वर्ष में चार बार नवरात्रि का समय आता है जिसमें से 2 बार गुप्त नवरात्रि आते है गुप्त नवरात्रि के समय जो साधक शक्ति की उपासना करना चाहते है वे इसी समय का चुनाव करते है | शेष 2 नवरात्रि को सम्पूर्ण भारत वर्ष में हर घर में एक पर्व के रूप में मनाया जाता है | यह… Read More »

शनि यंत्र लॉकेट(तावीज़) ! शनि देव को प्रसन्न करने का अचूक उपाय

जहाँ जीवन में सुख-दुःख, रोग और पीडाओं की बात आती है तो इसका सीधा संबंध शनि देव से है | हिन्दू धरम में शनि देव को मनुष्य के कर्मों का फल देने के लिए एक जज के रूप में स्थान प्राप्त है | जो जातक अपने जीवन में अच्छा कर्म करता है उसे शनि देव सुख की अनुभूति… Read More »

चार मुखी रुद्राक्ष को धारण करने की विधि एवं लाभ और अभिमंत्रित करने की विधि

चार मुखी रुद्राक्ष को ब्रह्मा जी का स्वरुप माना गया है | चार मुखी रुद्राक्ष को धारण करने से माँ सरस्वती का आशीर्वाद प्राप्त होता है | ज्योतिष की द्रष्टि से चार मुखी रुद्राक्ष को बुध गृह का कारक माना गया है | इसलिए जिस भी जातक की कुंडली के लग्न में बुध गृह हो उसे चार मुखी… Read More »

राहु की दशा और महादशा में इन उपायों को अपनाएं ! राहु दोष निवारण हेतु उपाय

राहु और केतु दोनों को छाया गृह माना गया है | यद्यपि ये स्वत्रंत रूप से अपने प्रभाव नहीं दिखाते है | ये दोनों गृह जिस भी गृह के साथ होते है उसी के अनुरूप फल प्रदान करते है | ऐसा नहीं है कि राहू और केतु हमेशा ही अशुभ फल प्रदान करते है | जब राहू कुंडली… Read More »

एक मुखी रुद्राक्ष ! असली व नकली एकमुखी रुद्राक्ष की पहचान कैसे करें ?

एकमुखी रुद्राक्ष के बारे में यह प्रसिद्द है कि एकमुखी रुद्राक्ष को धारण करने से व्यक्ति के पूर्व जन्म के पाप नष्ट हो जाते है | चूँकि व्यक्ति दुःख और कष्ट अपने पूर्व जन्म के कर्मों के प्रतिफल के रूप में ही पाता है, इसलिए एकमुखी रुद्राक्ष को धारण करने से व्यक्ति इन पापों से मुक्त होकर जीवन… Read More »

गणेश जी को खुश करने के उपाय ! गणेश जी की पूजा किस प्रकार करें ?

भगवान श्री गणेश बुद्धि के देव माने गये है और इस संसार में बुद्धि के बल पर हर असंभव कार्य को भी संभव बनाया जा सकता है | हिन्दू धर्म में भगवान श्री गणेश को सर्वश्रेष्ठ स्थान प्राप्त है इसलिए उनकी पूजा सबसे पहले की जाती है | किसी भी देव या देवी की पूजा-उपासना और अनुष्ठान आदि… Read More »