नवग्रह शांति मंत्र | सभी 9 ग्रहों की शांति के लिए इन मन्त्रों का ज़प करें

By | January 23, 2018

ज्योतिष शास्त्र का सम्पूर्ण आधार सौरमंडल में स्थित सभी 9 ग्रहों को माना गया है | ज्योतिष शास्त्र को ज्योतिष विज्ञान भी कहा गया है क्योंकि ज्योतिष शास्त्र ने अपने तथ्यों को समय-समय पर वैज्ञानिक द्रष्टिकोण से प्रमाणित किया है | ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सौर मंडल में स्थित 9 ग्रहों को नवग्रह/Navgrah की संज्ञा दी गयी है | जिस प्रकार से ब्रह्मांड में होनी वाली हलचल का प्रभाव पृथ्वी पर पड़ता है, चन्द्रमा के प्रभाव से समुद्र में ज्वार -भाटे आते है ठीक उसी प्रकार से सौर मंडल में स्थित ग्रहों का मावन जीवन पर सीधे-सीधे प्रभाव पड़ता है | यहाँ इस post में आप मंत्र द्वारा सभी 9 ग्रहों(Navgrah Mantra Hindi) की शांति/shanti कैसे करें ? इस विषय में जानकारी प्राप्त करेंगें |

navgrah mantra hindi me

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सभी नवग्रह (सूर्य ,शनि ,शुक्र, ब्रहस्पति ,चंद्रमा, बुध ,मंगल ,राहू  और केतु ) जातक की कुंडली में सकारात्मक और नकारात्मक दोनों प्रभाव दिखाते है | यह निर्भर करता है जातक की लग्न कुंडली में कि कौन सा गृह कौन से भाव में बैठा है | कुंडली में नकारात्मक प्रभाव देने वाले ग्रहों को ही गृहदोष की श्रेणी में रखा जाता है व समय रहते इनके उपाय भी किये जाते है |

जातक की लग्न कुंडली में एक गृह से लेकर 7 ग्रहों के नकारात्मक प्रभाव एकसाथ हो सकते है सभी के सभी 9 ग्रहों/Navgrah का ख़राब होना इसकी सम्भावना न के बराबर ही होती है | जातक की कुंडली में गृह दोष उन्हें शारीरिक, मानसिक और आर्थिक सभी प्रकार से कष्ट देते है | नवग्रह शांति की पाठ-पूजा का विधान काफी लम्बा है इसलिए किसी विद्वान् पंडित द्वारा ही नवग्रह/Navgrah पूजा संपन्न की जानी चाहिए |

ग्रहों के अनुसार उनकी शांति हेतु मंत्र जप :-

Navgrah Mantra Hindi me :

सूर्य दोष :-

सूर्य गृह उर्जा का प्रतीक है और साथ ही यह जातक को समाज में मान-सम्मान और यश की प्राप्ति कराता है | जिस जातक की कुंडली में सूर्य गृह सही स्थिति में बैठा हो उसका शारीरिक स्वास्थ्य अच्छा रहता है | ऐसा व्यक्ति शरीर से हष्ट-पुष्ट और बलवान होता है | इसके विपरीत जिस जातक की कुंडली में सूर्यदोष हो वह सदा बीमारी से परेशान रहता है | ऐसा संभव है कि ऐसा व्यक्ति किसी असाध्य रोग की गिरफ्त में आ जाये | सूर्य गृह का नकारात्मक प्रभाव आपकी नौकरी में भी अड़चन का कारण बन सकता है |

सूर्य दोष की शांति के लिए आप प्रतिदिन इस मंत्र का जप करें :  ऊॅं सूं सूर्याय नमः 

प्रतिदिन सुबह स्नान आदि करके पूजा के समय सूर्यदेव के उपरोक्त मंत्र के यथासंभव जप करें | शीघ्र ही इसके परिणाम आपको दिखाई देने लग जायेंगे |

चन्द्र दोष :-

हिन्दू धरम में चन्द्रमा को चन्द्र देव कहा गया है | चन्द्र देव को सोम के नाम भी पुकारा जाता है | लग्न कुंडली में चन्द्र दोष होने पर जातक पेट संबंधी रोगों से परेशान रहता है और मानसिक व्याधियां भी होने की सम्भावना बढ़ जाती है | ऐसे जातक के बिना वजह ही शत्रु बनने लग जाते है | व्यापार में धन की हानि होने लगती है |

चन्द्र दोष शांति हेतु इस मंत्र का जप करें : –  ऊॅं सों सोमाय नमः

मंगल दोष :-

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मंगल गृह को विनाशकारी माना गया है | कुंडली में मंगल गृह के नीच स्थान में होने पर मांगलिक दोष होता है | लग्न कुंडली में 1 ,4, 7, 8, और 12 वे भाव के से किसी भी स्थान पर मंगल गृह होने पर मांगलिक दोष बनता है | जिसका सीधा प्रभाव जातक के वैवाहिक जीवन पर और संतान संबंधी सुख पर पड़ता है |

कुंडली में मांगलिक दोष निवारण के लिए आप इस मंत्र के नियमित जप करें : – ॐ भौं भौमाय नमः

उपरोक्त मंत्र(Navgrah Mantra Hindi) के पूजा के समय यथासंभव मंत्र जप करने चाहिए | हनुमान जी आराधना से भी मंगल दोष शांत होता है | इसलिए पूर्ण भक्ति भाव और निष्ठापूर्वक हनुमान जी आराधना मांगलिक दोष से होने वाले दुष्प्रभावों को रोकती है |

बुध गृह दोष :-

आपकी कुंडली में बुध गृह का अशुभ प्रभाव आपको व्यापार , दलाली और नौकरी में हानि पहुँचा सकता है | बोलने की शक्ति में तुतलाहट आना बुध गृह/grah का नीच भाव में आने के कारण ही होता है |  बुध गृह के अशुभ प्रभाव दोस्तों से मित्रता में खटास का कारण बन सकते है | यहाँ तक की आपकी बहन , बुआ या मौसी का किसी भारी मुशीबत में आना बुध गृह के नीच भाव में होने के कारण ही होता है |

बुध गृह दोष निवारण के लिए आप इस मंत्र का जप करें :-   ॐ बुं बुधाय नमः

उपरोक्त मंत्र(Navgrah Mantra Hindi) के जप करने के अतिरिक्त बुध गृह दोष होने पर माँ दुर्गा की पूजा-आराधना करना विशेष रूप से लाभप्रद माना गया है |

गुरु गृह दोष : –

सामान्यतः गुरु गृह शुभ फल ही देता है किन्तु यदि गुरु गृह किसी पापी गृह/grah के साथ विराजमान हो जाये तो कभी कभी अशुभ संकेत भी देने लगता है | गुरु दोष होने पर जातक विवाह व अपने भाग्य से संबधी परेशानियों का सामना करता है | कुंडली में गुरु दोष शारीरिक , मानसिक व आर्थिक सभी प्रकार से कष्ट देता है |

कुंडली में गुरु दोष निवारण हेतु इस मंत्र का जप करें :- ॐ बृं बृहस्पतये नमः

ब्रहस्पति गृह के इस मंत्र के प्रत्येक गुरुवार के दिन सुबह-सुबह पूजा के समय 108 मंत्र जप करने चाहिए |

शुक्र गृह दोष :-

शुक्र गृह को पति-पत्नी , प्रेम संबंध, एश्वर्य और आनंद आदि का कारक गृह माना गया है | जिस जातक की कुंडली में शुक्र गृह की स्थिति अच्छी हो वह अपना सम्पूर्ण जीवन  प्रेम , एश्वर्य और आनंद से बिताता है | ऐसे जातक का दाम्पत्य जीवन भी प्रेम व आनंद से परिपूर्ण रहता है | कुंडली में शुक्र गृह के कमजोर होने पर जातक मूत्र संबंधी विकार , नेत्र रोग , गुप्तेन्द्रिय , सुजाक , रक्त प्रदर, प्रमेह और पांडू रोग से पीड़ित हो सकता है | शुक्र गृह/grah की कमजोर स्थिति आपके वैवाहिक जीवन में कलह का कारण बन सकती है |

शुक्र गृह दोष होने पर इसके अशुभ प्रभावों को कम करने हेतु इस मंत्र का जप करना चाहिए : – ऊँ शुं शुक्राय नम:

उपरोक्त मंत्र के प्रतिदिन कम से कम 108 जप करें और साथ ही शुक्रवार के दिन 5 कन्याओं को खीर खिलाये और बाद में स्वयं भी खाएं |

शनि गृह दोष :-

शनि गृह जिसे शनिदेव भी कहा गया है | हिन्दू धर्म में शनिदेव आपके द्वारा किये गये कर्मो का फल प्रदान करने वाले है | जातक की कुंडली में शनि की क्रूर द्रष्टि(शनि दोष ) उसके सम्पूर्ण जीवन को तहस-नहस कर सकती है | यहाँ तक की लग्न कुंडली के पहले भाव में शनि का होना जातक की मृत्यु का कारण भी बन सकता है | अक्सर देखा गया है कि शनि की साढ़े साती व ढैय्या से प्रभावित जातक जीवन से इतना परेशान हो जाता है कि उसे शनि शांति हेतु किसी विद्वान् पंडित से पूजा-पाठ भी कराने पड़ जाते  है |

शनि दोष की शांति के लिए आप शनिवार के दिन मंदिर जाए और शनिदेव को सरसों का तेल , काले तिल और रेवड़ी का प्रसाद चढ़ाये व इस मंत्र का 108 बार जप करें :-  ॐ शं शनैश्चराय नमः

राहू-केतू गृह दोष :-

राहू -केतू ग्रहों को छाया गृह कहा गया है | ज्योतिष शास्त्र में राहू केतू को पापी गृह/grah की श्रेणी में रखा गया है | इन दोनों ग्रहों का अपना कोई अस्तित्व नहीं होता है ये दोनों गृह जिस भी गृह के साथ आ जाते है उसी के दोषों के अनुसार अपना प्रभाव दिखाने लगते है | जातक की लग्न कुंडली में राहू केतू की महादशा होने पर जातक जीवन भर मुशिबतों का सामना करता है | ऐसी स्थिति में जातक को अतिशीघ्र किसी विद्वान् पंडित से राहू केतू दोष के निवारण हेतु पूजा-पाठ अवश्य करानी चाहिए |

राहू गृह के अशुभ प्रभावों को कम करने के लिए इस मंत्र(Navgrah Mantra Hindi) का नियमित जप करें : – ॐ रां राहवे नमः

केतू गृह के अशुभ प्रभावों को कम करने के लिए इस मंत्र(Navgrah Mantra Hindi) का जप करना चाहिए : –ॐ कें केतवे नमः

अन्य जानकारियाँ :- 

यदि आप ज्योतिष शास्त्र पर विश्वास करते है और जीवन में परेशानियों का सामना कर रहे है तो आज ही किसी ज्योतिष से अपनी लग्न कुंडली दिखाए व अपने गृह दोषों के बारे में पता लगाकर समय रहते उनका निवारण करें | इस post में ग्रहों(Navgrah Mantra Hindi) के अनुसार दिए गये मंत्र आपके गृह दोषों(Grah Dosh) को शांत करने में आपकी सहायता करते है जिससे आपके जीवन में आने वाली परेशानियाँ स्वतः ही कम होने लग जाती है |

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *