Category Archives: पूजा विधि

शनिदेव पूजा विधि ! शनि दोष दूर करने के लिए इस प्रकार करें शनि पूजन

हिन्दू धर्म में शनि देव को आपके कर्मो के फल देने वाले देव के रूप में जाना जाता है | शनि देव एकमात्र ऐसे देव है जो जातक को उसके कर्म के अनुसार फलीभूत करते है और दण्डित भी करते है | यह जातक के कर्मो के अनुसार निर्णित किया जाता है कि उसने किस प्रकार के कर्म… Read More »

नवरात्रि में इस प्रकार करें माँ दुर्गा पूजा ! नवरात्रि में ध्यान रखने योग्य बातें और मंत्र साधना विधि

वर्ष में चार बार नवरात्रि का समय आता है जिसमें से 2 बार गुप्त नवरात्रि आते है गुप्त नवरात्रि के समय जो साधक शक्ति की उपासना करना चाहते है वे इसी समय का चुनाव करते है | शेष 2 नवरात्रि को सम्पूर्ण भारत वर्ष में हर घर में एक पर्व के रूप में मनाया जाता है | यह… Read More »

गणेश जी को खुश करने के उपाय ! गणेश जी की पूजा किस प्रकार करें ?

भगवान श्री गणेश बुद्धि के देव माने गये है और इस संसार में बुद्धि के बल पर हर असंभव कार्य को भी संभव बनाया जा सकता है | हिन्दू धर्म में भगवान श्री गणेश को सर्वश्रेष्ठ स्थान प्राप्त है इसलिए उनकी पूजा सबसे पहले की जाती है | किसी भी देव या देवी की पूजा-उपासना और अनुष्ठान आदि… Read More »

माँ लक्ष्मी और भगवान विष्णु को प्रसन्न करने हेतु इस प्रकार लगाये अरदास

हिन्दू धर्म में धन की देवी माँ लक्ष्मी को माना गया है | जो स्वभाव से बड़ी चंचल होती है इसलिए कहा गया है लक्ष्मी एक स्थान पर अधिक समय तक टिकती नहीं है | आज हम आपको वृषभ और तुला राशि के जातकों के लिए विशेष रूप से माँ लक्ष्मी/(Laxmi Narayan ko Prasann) के समक्ष ऐसी अरदास… Read More »

भैरव के 108 नाम द्वारा भैरव उपासना

कलियुग में भैरव बाबा की उपासना आपके सभी दुखों-कष्टों को दूर करने में फलदायी मानी गयी है | तंत्र शास्त्र में भी भैरव बाबा को प्रमुख माना गया है | यद्यपि सभी भैरव भक्त अपने-अपने श्राद्ध भाव द्वारा भैरव उपासना करते है और उन्हें प्रसन्न करने का यत्न करते है | लेकिन किसी भी देव आराधना में सबसे… Read More »

भगवान शिव पंचाक्षर स्त्रोत पाठ | भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए इस पाठ द्वारा करें उनकी आराधना

भगवान शिव की पूजा सर्वोपरि है | सभी पापों व कष्टों को दूर करने वाले भगवान भोलेनाथ की आराधना यूँ तो सभी भक्त अपने-अपने तरीकों से करते है | किन्तु कुछ शास्त्रवत ऐसे उपाय भी है जिन्हें करने से भगवान शिव की विशेष कृपा प्राप्त होती है | पंचाक्षर स्त्रोत पाठ द्वारा भगवान शिव की आराधना करना उनकी… Read More »

28 जुलाई 2018 श्रावण मास का आरंभ ! सावन मास में मंत्र जप द्वारा भगवान शिव आराधना

सावन(श्रावण) मास धार्मिक द्रष्टि से सभी 12 महीनों में सबसे अधिक महत्व रखता है | सावन(श्रावण) मास में भगवान शिव की आराधना करना विशेष रूप से फल प्रदान करने वाला माना गया है | शास्त्रों के अनुसार सावन(श्रावण) मास में विधिवत शिव पूजा से अभीष्ट फल की प्राप्ति होती है | सावन(श्रावण) मास में  भगवान शिव के प्रिय… Read More »

पीपल के पेड़ की पूजा के पीछे का रहश्य | शनिदोष निवारण में पीपल के पेड़ का महत्व

पीपल के पेड़ और तुलसी के पेड़ को धार्मिक द्रष्टि से बड़ा महत्व दिया गया है | पीपल के पेड़ को देववृक्ष भी कहा जाता है | शास्त्रों के अनुसार पीपल के पेड़ में सभी देवों का वास माना गया है स्कन्दपुराण में पीपल के पेड़ की विशेषताओं का वर्णन करते हुए कहा गया है कि पीपल के… Read More »

गोपाल सहस्त्रनाम पाठ ! रोग-क़र्ज़ से छुटकारा पाने का अचूक उपाय

हमारे वैदिक शास्त्रों में कष्टों के निवारण हेतु बहुत से भिन्न-भिन्न उपायों का उल्लेख मिलता है | आज हम आपको भगवान श्री कृष्ण से सम्बन्धित गोपाल सहस्त्रनाम के पाठ/(Gopal Sahastranaam Path ke Labh)के विषय में जानकारी देने वाले है | यूँ तो भगवान श्री कृष्ण के हजारों नाम है जिनमें उनका एक नाम गोपाल भी बहुत प्रचलित है… Read More »

हनुमान जी का आशीर्वाद पाना है तो इन बातों का अवश्य ध्यान रखे

कलियुग में हनुमान जी की आराधना सबसे अधिक की जाती है | हनुमान जी की आराधना से गृह दोष आदि शांत होते है | सूर्य देव और हनुमान जी दोनों को एक दुसरे का स्वरुप कहा गया है | इसलिए हनुमान जी की आराधना/(Hanuman Pooja ke Niyam)करने से जातक में सूर्य तत्व ( बल , आत्मविश्वास,) आदि का… Read More »