Tag Archives: shani dosh upaay

शनिदेव पूजा विधि ! शनि दोष दूर करने के लिए इस प्रकार करें शनि पूजन

हिन्दू धर्म में शनि देव को आपके कर्मो के फल देने वाले देव के रूप में जाना जाता है | शनि देव एकमात्र ऐसे देव है जो जातक को उसके कर्म के अनुसार फलीभूत करते है और दण्डित भी करते है | यह जातक के कर्मो के अनुसार निर्णित किया जाता है कि उसने किस प्रकार के कर्म… Read More »

शनि यंत्र लॉकेट(तावीज़) ! शनि देव को प्रसन्न करने का अचूक उपाय

जहाँ जीवन में सुख-दुःख, रोग और पीडाओं की बात आती है तो इसका सीधा संबंध शनि देव से है | हिन्दू धरम में शनि देव को मनुष्य के कर्मों का फल देने के लिए एक जज के रूप में स्थान प्राप्त है | जो जातक अपने जीवन में अच्छा कर्म करता है उसे शनि देव सुख की अनुभूति… Read More »

शनि यंत्र सिद्धि – शनि यंत्र की महिमा – भोजपत्र पर इस प्रकार बनाये शनि यंत्र

जहाँ जीवन में सुख-दुःख, रोग और पीडाओं की बात आती है तो इसका सीधा संबंध शनि देव से है | हिन्दू धरम में शनि देव को मनुष्य के कर्मों का फल देने के लिए एक जज के रूप में स्थान प्राप्त है | जो जातक अपने जीवन में अच्छा कर्म करता है उसे शनि देव सुख की अनुभूति… Read More »

जब हनुमान जी ने शनिदेव का घमंड किया दूर | शनिदेव को तेल क्यों चढ़ाया जाता है ?

भगवान श्री राम के सबसे बड़े भक्त हनुमान जी है | हनुमान जी सदैव भगवान श्री राम की भक्ति में लीन रहते है | जय श्री राम के नाम का जप ही उन्हें असीमित शक्तियों का मालिक बनाता है | इसलिए कोई भी विकट समस्या आने पर वे सिर्फ राम नाम के सहारे ही उससे निजात पा लेते… Read More »

जन्म कुंडली न होने पर किस प्रकार करें ज्योतिष समाधान ?

ज्योतिष शास्त्र में जातक की समस्याओं का कारण और उनका निवारण मिलता है | किन्तु यह तभी संभव हो पाता है जब जातक को अपने जन्म के विषय में ठीक-ठीक जानकारी पता हो जैसे जन्म की तारीख ,सही समय और जन्म का स्थान आदि | इन सब के आधार पर भी जातक की लग्न कुंडली/(Bina Janam Kundali ke… Read More »

शनि की साढ़े साती के प्रकोप को शांत करने के लिए शनिदेव के इस मंत्र का ज़प अवश्य करें |

हिन्दू धर्म के अनुसार शनिदेव को कर्मो के फल देने वाले देव कहा गया है | मनुष्य अपने कर्मो के आधार पर शनिदेव की कृपा पाते है व दण्डित भी होते है | मानव योनी में किये गये सभी पाप और पुण्य का फल शनिदेव द्वारा ही दिया जाता है | इसीलिए उनकी कृपा द्रष्टि जिस भी मनुष्य… Read More »