तुला राशी के जातक इस मंत्र का जप करें

By | August 24, 2020

ज्योतिष में ग्रहों के फल को 12 राशियों में विभाजित किया गया है | जन्म के समय चंद्रमा जिस राशी में होता है वह आपकी राशी होती है | जैसे आपके जन्म के समय यदि चंद्रमा तुला राशी में है तो आपकी राशी तुला होगी | यदि आपको यह नहीं पता कि आपकी राशी कौन सी है तो इस प्रकार से आप अपनी राशी का पता इस प्रकार करें | यदि आपके नाम का पहला अक्षर : रा , री , रु , रे , रो , ता , ती , तू , ते इन अक्षरों में से एक है तो आपकी राशी तुला है |

तुला राशी के स्वामी शुक्र है | तुला राशी में शनि उच्च के होते है तो सूर्य नीच के | तुला राशी के जातकों के लिए शनि की उपासना और सूर्य की उपासना दोनों ही सकारात्मक परिणाम देने वाली है | इसके साथ ही तुला राशी के जातक को लक्ष्मी जी की भी उपासना अवश्य करनी चाहिए | क्योंकि शुक्र के प्रभाव लक्ष्मी जी द्वारा नियंत्रित होते है |

Tula Rashi Ka Mantra :

Tula Rashi Ka Mantra

तुला राशी के लिए मंत्र :

विशेष रूप से तुला राशी के लिए इस मंत्र का उल्लेख मिलता है :  “ऊँ तत्त्वनिरंजनाय तारक रामाय नम:”  | इस मंत्र के प्रतिदिन 108 मंत्र जप करने का उल्लेख शास्त्रों में मिलता है |

किन्तु यदि तुला राशी के जातक इस मंत्र का नियमित जप करें तो उनका जीवन अवश्य ही सकारात्मक दिशा की ओर अग्रसर होने लगेगा | मंत्र इस प्रकार है :

|| ॐ श्री लक्ष्मी नारायणाभ्याम् नमः || 

 लक्ष्मी नारायण के इस मंत्र का जप नियमित रूप से प्रातः कम से कम 21 बार अवश्य करना चाहिए | जब भी आपको समय मिले बुधवार के दिन लक्ष्मी-नारायण मंदिर जाकर एक नारियल व फूलों का हार भगवान के चरणों में अवश्य चढ़ाये |

तुला राशी के जातक के लिए सूर्य को अर्ध्य देना श्रेष्ठ फल देने वाला है | प्रतिदिन स्नान आदि से निवृत होकर सूर्य को जल देने के बाद ही तुला राशी के जातक को अपने दिन की शुरुआत करनी चाहिए | यदि तुला राशी के जातक उपरोक्त कार्य कर लेते है तो उन्हें किसी ज्योतिष के पास जाने की कोई आवश्यकता नहीं होगी | उनका जीवन स्वतः ही सरल और सुखद होने लगेगा |

Leave a Reply

Your email address will not be published.