यह है हनुमान जी का सबसे प्रिय मंत्र ! द्वाद्श्याक्षर मंत्र

By | January 26, 2018

हनुमान जी अपने भक्तों के भक्तिभाव और प्रेमभाव से अतिशीघ्र प्रसन्न होकर उन्हें फलीभूत करते है | सभी हनुमान भक्त अलग-अलग तरीकों से हनुमान जी की आराधना करते है | जिनमें कुछ भक्त हनुमान चालीसा , संकटमोचन हनुमान अष्टक और बजरंग बाण का पाठ कर उनकी आराधना करते है तो कुछ मंत्र जप द्वारा उन्हें खुश करते है | आज हम आपको एक ऐसे ही मंत्र के विषय में जानकारी देने वाले है जो हनुमान जी को अति प्रिय(Hanuman Best Mantra Hindi) है | शास्त्रों में इसे हनुमान जी द्वाद्श्याक्षर मंत्र के नाम से पुकारा गया है | इस मंत्र द्वारा हनुमान जी की आराधना से सभी मनोकामनाएं शीघ्र पूर्ण होती है |

hanuman best mantra hindi

आइये जानते है हनुमान द्वाद्श्याक्षर मंत्र के विषय में विस्तार से :

Hanuman Best Mantra Hindi

हं हनुमते रुद्रात्मकायं हुं फट्    

इस मंत्र के विषय में ऐसी मान्यता है कि पूर्व-काल में भगवान श्रीकृष्ण ने यह मंत्र अर्जुन को बताया था, तथा इसकी साधना करके उन्होंने न केवल हनुमान जी को प्रसन्न ही कर लिया था, अपितु उनकी कृपा से त्रैलोक्य-विजयी का पद भी पाया था | इसी मंत्र के वशीभूत होकर हनुमान जी महाराज महाभारत के युद्ध में अर्जुन के रथ की ध्वजा पर सदैव विराजमान रहे थे और उसे कभी झुकने नहीं दिया था | हनुमान जी के संरक्षण में रहते हुए ही अर्जुन ने उस महायुद्ध में विजय प्राप्त की थी |

हनुमान जी के इस मंत्र/Mantra का जप नियमित रूप से पूजा के समय किया जा सकता है | वैसे तो इस मंत्र को सिद्ध करने के लिए सवा लाख मंत्रों के जप और साढ़े बारह हजार आहुतियों का विधान है | किन्तु आपको मंत्र सिद्ध करने की आवश्यकता नहीं है आप इस मंत्र का जप अपने कल्याणार्थ कर सकते है | हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए व मनोकामना पूर्ती के लिए प्रतिदिन 3 माला का जप करें |

अन्य जानकारियाँ : – 

मंत्र/Mantra जप में रुद्राक्ष की माला का प्रयोग करें | माला को गोमुखी में रखकर ही मंत्र जप करें व पूजा स्थान पर हनुमान यंत्र को अवश्य स्थापित करें | हनुमान जी के इस द्वाद्श्याक्षर मंत्र(Hanuman Best Mantra Hindi) के नियमित जप से हनुमान यंत्र भी स्वयं ही सिद्ध होने लगता है |

4 thoughts on “यह है हनुमान जी का सबसे प्रिय मंत्र ! द्वाद्श्याक्षर मंत्र

  1. Narhari Patel

    …………..आगे प्रणव ” ॐ ” लगाना नहीं हे ?…..तो मंत्र सिद्ध कैसे होगा !!!!!!!!!

    Reply
    1. TARUN SHARMA Post author

      अल्टीमेट ज्ञान में आपका स्वागत है |
      इस मंत्र को सिद्ध करते समय आप मन्त्र के शुरू में “ॐ” शब्द लगाये |

      धन्यवाद

      Reply
  2. TARUN SHARMA Post author

    uLtimate Gyan में आपका स्वागत है

    Share this blog to your community

    Thanks

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *