पूजा-पाठ के समय इस स्तुति मंत्र द्वारा हनुमान जी का ध्यान अवश्य करें |

By | October 29, 2017

हनुमान स्तुति मंत्र /Hanuman Stuti Mantra

संकंट मोचन कहे जाने वाले हनुमान जी के ध्यान मात्र से ही भक्तों के सभी दुःख दूर हो जाते है | भगवान शिव के अवतार माने जाने वाले हनुमान जी कल्याणकारी शक्तियों के स्वामी है | कलियुग के समय में हनुमान जी को जागृत शक्तियों में से एक माना गया है इसलिए श्री राम भक्त हनुमान अपने भक्तों के थोड़े से भक्ति भाव से प्रसन्न होकर उनकी मनोकामना पूरी करते है | हिन्दू धरम में किसी भी देव या देवी की आराधना से पहले यदि उनकी स्तुति द्वारा उनका स्मरण किया जाये तो पूजा का पूर्ण प्रतिफल प्राप्त होता है | इसलिए हनुमान जी की भी पूजा से पहले उनके स्तुति मंत्र Hanuman Stuti द्वारा उनका स्मरण किया जाना चाहिए |

हनुमान जी की पूजा के समय हनुमान जी की स्तुति Hanuman Stuti द्वारा उनका स्मरण किया जाना चाहिए | हनुमान स्तुति द्वारा हम हनुमान जी की शक्तियों को याद करते है | तो आइये जानते है पूजा के समय हनुमान स्तुति Hanuman Stuti के विषय में :

hanuman stuti

हनुमान स्तुति Hanuman Stuti : – 

वैसे तो हनुमान जी का सम्पूर्ण जीवन भक्ति भाव , परोपकार , प्रेम , मित्रता , पराक्रम द्वारा सभी के लिए प्रेरणा का स्त्रोत रहा है | जिसमें विशेष रूप से उनके दिव्य और चमत्कारिक चरित्र का वर्णन श्री रामचरित मानस के सुंदर काण्ड में मिलता है | इसलिए कठिन संकट के समय सुंदर काण्ड के पाठ द्वारा हनुमान जी की आराधना करने से सभी संकटों से मुक्ति मिलती है |

सुंदर काण्ड के शुरू में ही हनुमान जी की एक स्तुति का वर्णन किया जाता है | पूजा के समय इस स्तुति द्वारा हनुमान जी का ध्यान करना चाहिए |

1. हनुमान स्तुति Hanuman Stuti : –

अतुलितबलधामं हेमशैलाभदेहम्

दनुजवनकृशानुं ज्ञानिनामग्रगण्यम् |

सकलगुणनिधानं वानराणामधीशम्

रघुपतिप्रियभक्तं वातजातं नमामि ||

अर्थ : – अतुल बल के धाम , सोने के पर्वत के समान कान्तियुक्त शरीरवाले, दैत्यरूपी वन को ध्वंस करें वाले , ज्ञानियों में सबसे आगे , सम्पूर्ण गुणों के निधान , वानरों के स्वामी , श्री रघुनाथ जी के प्रिये भक्त पवनपुत्र श्री हनुमान जी को मैं प्रणाम करता हूं |

नियमित रूप से हनुमान जी की इस स्तुति द्वारा उनका स्मरण करने से सभी बिगड़े काम ठीक होने लगते है और सभी प्रकार की गृह दशाएं (शनि दशा ,मंगल दशा ,गुरु दशा ) अपने आप शांत होने लगती है | विशेष रूप से मंगल दशा में इस स्तुति का नियमित पाठ अधिक लाभप्रद है |  ⇒ ♣  हनुमान जी के साक्षात् दर्शन के लिए इस शाबर मंत्र द्वारा करें साधना ♣ ⇐ 

2. हनुमान स्तुति मंत्र Hanuman Stuti Mantra :- 

ॐ मनोजवं मारुततुल्य वेगम् जितेन्द्रियं बुद्धिमतां वरिष्ठं
वातात्मजं वानर युथमुख्यं श्री रामदूतं शरणं प्रपद्ये ||

अर्थ : – वह जो मन की गति से भी तेज है | जो वायु से भी ज्यादा बलशाली है जिन्होंने सभी इन्द्रियों पर पूर्ण विजय प्राप्त की है जो बुद्धि में सबसे आगे है जो वायु के पुत्र है | जो वानरों में प्रमुख है | मैं भगवान श्री राम चन्द्र के उस भक्त ( हनुमान जी ) की शरण में जाता हूं |

hanuman stuti mantra

यह स्तुति के साथ -साथ एक मंत्र भी है | इसलिए इस Hanuman Stuti स्तुति मंत्र द्वारा हनुमान जी की आराधना हनुमान जी को सबसे अधिक प्रिय है | दैनिक पूजा-पाठ में इस स्तुति मंत्र का 5 या 7 बार जप अवश्य करना चाहिए | किसी भी मनोकामना पूर्ती हेतु इस स्तुति मंत्र का सुबह -शाम 108 बार जप करना चाहिए | 21 दिन तक इस प्रकार मंत्र जप करें और बीच में 2 मंगलवार हनुमान जी को चौला चढ़ाये | नोट : इन दिनों के मध्य ब्रह्मचर्य का पालन अवश्य करें |  ⇒ ♣ जानिए, सरल व गुप्त हनुमान साधना विधि ♣ ⇐ 

 

361 total views, 11 views today

Related posts:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *