गुरु गोरखनाथ के शक्तिशाली शाबर मंत्र

By | November 10, 2017

गुरु गोरखनाथ मंत्र Gorakhnath Mantra

जब भी कभी किसी साधना का नाम आता है तो अकस्मात ही एक नाम मन में आने लगता है  ” गुरु गोरख नाथ ” | गुरु गोरखनाथ एक ऐसे  तपस्वी हुए है जिनका सम्पूर्ण जीवन साधना व सिद्धियाँ प्राप्त करने में समर्पित हुआ | सभी सिद्ध शाबर मंत्र गुरु गोरखनाथ की ही देन है | गुरु गोरखनाथ को गोरक्ष नाथ भी कहा गया है | गुरु गोरखनाथ के मन्त्रों द्वारा किसी भी प्रकार के रोग ,व्याधि और पीडाओं को दूर किया जा सकता है | गुरु गोरखनाथ के दिए मन्त्रों/Gorakhnath Mantra  का विस्तार से वर्णन कर पाना कठिन है किन्तु यहाँ हम आपको गुरु गोरखनाथ के कुछ शक्तिशाली शाबर मंत्रों की जानकारी देंगें |

गुरु गोरखनाथ कौन थे ? :- 

गुरु मत्स्येन्द्र नाथ के शिष्य गुरु गोरखनाथ अनेक सिद्धियों के मालिक थे | जो कि नाथ पंथ से गुरु मत्स्येन्द्र नाथ के बाद सबसे प्रभावशाली गुरु हुए है | गोरखपुर शहर का नाम गुरु गोरखनाथ के नाम पर ही है | गोरखपुर में गोरखनाथ जी का समाधि स्थल है जहाँ पूरे विश्वभर से नाथ सम्प्रदाय के लोग और गुरु गोरखनाथ के भक्त उनकी समाधि पर माथा टेकने आते है |

guru gorakhnath mantra

गुरु गोरख नाथ के जन्म का ठीक समय का अंदाज़ा लगाना थोडा मुश्किल है क्योंकि उनके जन्म के कोई ठोस प्रमाण नहीं है किन्तु विद्वानों के मत अनुसार गुरु गोरख नाथ का जन्म काल 850 ई. से 13वी सदी बीच का रहा होगा |  गुरु गोरख नाथ के जन्म के सन्दर्भ में एक कथा प्रचलित है जिसके अनुसार : एक बार गुरु मत्स्येन्द्र नाथ किसी गाँव में भिक्षा हेतु गये |जब वे एक घर में भिक्षा के लिए दरवाजे पर पहुंचे तो एक गृहणी ने  दरवाजा खोला और अचानक ही गुरु मत्स्येन्द्र नाथ से कहने लगी, गुरु जी मुझे पुत्र होने का आशीर्वाद दे | गुरु मत्स्येन्द्र नाथ बहुत ही पहुंचे हुए सिद्ध गुरु थे, गृहणी से पुत्र की अभिलाषा की इच्छा सुन गुरु मत्स्येन्द्र नाथ ने गृहणी को थोड़ी भभूत दी और बोले इसे खा लेना | उचित समय आने पुर तुम अवश्य एक सुंदर पुत्र को जन्म दोगी और यह पुत्र बहुत ही तजस्वी होगा | इतना कहकर गुरु मत्स्येन्द्र नाथ वहां से चले गए |

लगभग 12 वर्ष के बाद गुरु मत्स्येन्द्र नाथ फिर से उसी गाँव में भिक्षा के लिए पहुंचे | जैसे ही वे उस गृहणी के घर पहुंचे उन्हें अपना दिया आशीर्वाद याद आया और बच्चे के विषय में पुछा | गृहणी थोड़ी देर इधर-उधर देखते हुए व लज्जा महसूस करते हुए कहने लगी – हे गुरु उस दिन आपके जाने के बाद आस-पड़ोस की औरते बातें बनाने लगी कि ऐसे वैसे साधू दी हुई भभूत नहीं खानी चाहिए | और उनके कहने पर मैंने उस भभूत को घर के सामने गोबर से भरे गड्डे में फेक दिया |

इतना सब सुनने के बाद गुरु मत्स्येन्द्र नाथ ने अपनी ध्यान शक्ति से देखा व उस गोबर के गड्डे के पास जाकर आवाज दी | उनके आवाज देने पर एक सुंदर, चहरे पर तेज के साथ  12 वर्ष का बालक उनके सामने आ खड़ा हुआ | गुरु मत्स्येन्द्र नाथ उस बच्चे को अपने साथ लेकर चले गये | बाद में वही बच्चा बड़ा होकर गुरु गोरखनाथ के नाम से जाना गया |

Guru Gorakhnath Mantra/गुरु गोरखनाथ शाबर मंत्र : – 

यह गुरु गोरखनाथ जी का एक शक्तिशाली मंत्र है | यह मंत्र गुरु गोरखनाथ द्वारा सिद्ध होने के कारण तुरंत प्रभाव दिखता है | इस Gorakhnath Mantra  मंत्र का प्रयोग किसी भी व्यक्ति पर किये-कराये व सभी प्रकार के वशीकरण के प्रभाव को खत्म करने के लिए किया जा सकता है |

 1. गुरु गोरखनाथ शाबर मंत्र / Guru Gorakhnath Mantra : –

ॐ वज्र में कोठा, वज्र में ताला

वज्र में बंध्या दस्ते द्वारा

तहां वज्र का लग्या किवाड़ा

वज्र में चौखट, वज्र में कील

जहां से आय, तहां ही जावे

जाने भेजा, जांकू खाए

हमको फेर न सूरत दिखाए

हाथ कूँ, नाक कूँ, सिर कूँ

पीठ कूँ, कमर कूँ, छाती कूँ

जो जोखो पहुंचाए

तो गुरु गोरखनाथ की आज्ञा फुरे

मेरी भक्ति गुरु की शक्ति

फुरो मंत्र इश्वरोवाचा ||

मंत्र प्रयोग विधि : –  सात कुओं से जल लाकर इस जल को एक पात्र में एकत्रित कर रोगी को स्नान कराये | रोगी को स्नान कराते समय उपरोक्त मंत्र का उच्चारण करते रहे | वशीकरण व किये-कराये के प्रभाव से रोगी को तुरंत आराम मिलेगा |

2. Guru Gorakhnath Mantra/ गुरु गोरखनाथ शाबर मंत्र : – 

ॐ नमो महादेवी

सर्वकार्य सिद्धकर्णी जो पाती पुरे

ब्रह्मा विष्णु महेश तीनो देवतन

मेरी भक्ति गुरु की शक्ति

श्री गुरु गोरखनाथ की दुहाई

फुरो मंत्र ईश्वरो वाचा || 

मंत्र प्रयोग विधि : – सांसारिक जीवन में आने वाली सभी पीडाएं और बाधाएं इस शाबर मंत्र के जाग्रत करने से दूर होने लगती है | इसलिए समस्या कोई भी इस शाबर मंत्र के प्रयोग से दूर होती है | उपरोक्त मंत्र का शाम को 6 बजे के बाद कभी भी उच्चारण किया जा सकता है | इस मंत्र का नियमित कम से कम 27 बार जप करना चाहिए |

शाबर मंत्रो से पूर्ण फल प्राप्त करने के लिए इन्हें जाग्रत करने की आवश्यकता होती है | किसी भी शाबर मन्त्र को जाग्रत करने के लिए शाम के 06 बजे से रात्रि 09 बजे के बीच एक समय निश्चित कर 21 दिन तक प्रतिदिन गोबर के उपले की अग्नि प्रज्वल्लित कर इलायची के दानों द्वारा 108 मंत्र की आहूति दे |

अन्य जानकारियाँ :- 

पूरे नाथ सम्प्रदाय के गुरु कहे जाने वाले गुरु गोरखनाथ को 84 सिद्धियाँ प्राप्त थी | जिनमें वशीकरण और जीवन की सुख-सुविधाओं को प्राप्त करने वाली अनेक सिद्धियाँ थी | गुरु गोरखनाथ ने अनेक शाबर मन्त्रों की रचना की | ऐसी -ऐसी गूढ़ तंत्र विद्याएँ जिनसे लोग पहले अवगत नहीं थे, गुरु गोरखनाथ द्वारा ये तंत्र विद्याएँ चलन में आई | Guru Gorakhnath Mantra/ गुरु गोरखनाथ, भगवान शिव के भक्त थे व ऐसा माना जाता है कि ये सभी मंत्र उन्हें भगवान शिव द्वारा ही प्राप्त हुए थे |  |

 

 

 

 

22 thoughts on “गुरु गोरखनाथ के शक्तिशाली शाबर मंत्र

  1. Dr S P Dubey

    शाबर मंञों के जप संख्या , आहुती (होम) एवं निर्धारित समय को लेकर बहुत भ्रांतिया है
    १. जप संखया १ माला या उससे अधिक कितनी संखया में
    करना है
    २.आहुती मंञ जप के अलावा प्रति दिन १०८ की संख्या में
    देना है या जप पूर्ण होने के बाद अंतिम दिन?
    ३. निर्धारित दिन , साधना काल २१ दिन या ४१ दिन का होता
    है?
    ४. जप एवं आहुती दोनो साथ करना या कोइ भी एक
    ५. आहुती के लिए इलायची पुरी लेनी या इलायची दाने का
    उपयोग करना है
    ६. ग्रहण विशेष पर्वकाल छोडकर शेष पर्वकाल होली दिवाली
    शिवराञी नवराञी में जप संख्या क्या होगा , शेष दिनों मे
    शापर मंञ साधना किस दिन से शुरु की जा सकती है और
    एक दिवसीय साधनाए कौन सी हैं
    उपरोक्त सभी प्रश्न शाबर मंञ सिध्धि से संबंधित है
    कृपया इस पर अपना विचार प्रकट करे और सरल संक्षिप्त समाधान एक ही पेज मे दें , टुकडो में पद्धतियां बताने से भ्रांतिया पैदा होती है
    वैदिक एवं शाबर मंञ के लिए पुजा विधि से लेकर पुरे साधना का संक्षिप्त विवरण, मार्गदर्शन एवं पद्धति एक पेज में होने से सरलता होगी ।
    प्रणाम
    .

    Reply
    1. TARUN SHARMA Post author

      अल्टीमेट ज्ञान में आपका स्वागत है |
      07027140920 नंबर द्वारा आचार्य जी से संपर्क कर सकते है |

      धन्यवाद

      Reply
  2. SUNNY MEHTA

    please Email me your number. I need some suggestions .

    Reply
    1. TARUN SHARMA Post author

      अल्टीमेट ज्ञान में आपका स्वागत है |
      07027140920 नंबर द्वारा आचार्य जी से संपर्क कर सकते है |

      धन्यवाद

      Reply
  3. Rajbir 9992659865

    Guru Ji meri Ghar wali par kisi NE .kuch tona totka kra diya hai kai bhagto ke pass cala gaya hu lekin Aram nahi hai Main kya karu mujhe koi upay bataye aap ki bhaut kirpa hogi

    Reply
  4. dnyaneshwar

    Guruji ko mere pranam.
    Guruji mai kaphy pareshan hu. Mera pass paisa aaneka marg bandh rakha hai. 8 mahinese pareshan hu. Noukri bhi chali gai hai or gharme bhi achchha nahi hai.
    Mai hamesha bimar rahta hu.
    Mai charo taraf se pareshan hu. Pls. Mere samshyaoka samadhan kare.
    Jay Gorakshnath.

    Reply
    1. TARUN SHARMA Post author

      अल्टीमेट ज्ञान में आपका स्वागत है |

      आप निसंकोच आचार्य जी से बात कर सकते है: 07027140920

      धन्यवाद
      अल्टीमेट ज्ञान

      Reply
  5. Akshay

    Guruji ko mera pranam

    Guruji muje mata pita ki tabiyat ki chinta satati hain
    Shaadi ke liye manchahi ladki nahi milti aur naukri se utpanna ki matra kam hain
    Krupaya marg dikhaye

    Reply
    1. TARUN SHARMA Post author

      अल्टीमेट ज्ञान में आपका स्वागत है ,
      आप आचार्य जी से इस नो. द्वारा निशुल्क संपर्क कर सकते है : 7027140920

      धन्यवाद
      अल्टीमेट ज्ञान

      Reply
  6. rakesh

    गुरु गोरखनाथ शाबर मंत्र को प्रयोग के समय मंत्र में ( फुरो )शब्द पर फुक मारनी है

    Reply
  7. RT

    Tarun Ji चंद्र ग्रहण पर शाबर मंत्र सिद्ध कैसे करे वीडियो बनाये
    Please Please Please

    Reply
  8. Sushil kumar

    Guru ji pranam mera naam sushil kumar hai mai vidya sikhana chahta hu mujhe koi mantra bataye or apne sran me lekar apane margdrsan me sikhaye! mera prnam guru ji

    Reply
    1. TARUN SHARMA Post author

      इसके पीछे बहुत बड़ा कारण पित्र दोष हो सकता है |

      अधिक जानकारी के लिए आप गुरु से संपर्क कर सकते है : 7027140920

      धन्यवाद्

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *