हनुमान जी के 5 प्रिय भजन

By | December 27, 2018

हनुमान आपके सभी दुखों को दूर करने वाले है | हनुमान जी की कृपा जिस भी भक्त पर हो जाये उसका जीवन ही धन्य हो जाता है | हनुमान जी की आराधना में  भजन का अपना ही अलग महत्व है | तो आइये जानते है हनुमान जी के कुछ प्रिय भजनों(Hanuman Bhajan Lyrics) के विषय में जानकारी : –

हनुमान भजन (1) /Hanuman Bhajan Lyrics : – 

है मतवाला मेरा रखवाला  hanuman bhajan lyrics
लाल लंगोटे वाला 
सालासर वाला 
ये मेहंदीपुर वाला 
रोम रोम राम बसाये 
जपत राम की माला 
ओ बाबा मेरा ये सालासर वाला 
ओ बाबा मेरा ये मेहंदीपुर वाला ||

राम काज करने अवतारे 
राम प्रभु के काज सवारे 
अंजनी पुत्र राम के प्यारे 
सीता राम ह्रदय में धारे 
वीर है बंका तोड़ी गड़ लंका 
वीर है बंका तोड़ी गड़ लंका 
लंक जला झट डाला 
ओ बाबा मेरा ये सालासर वाला 
ओ बाबा मेरा ये मेहंदीपुर वाला 

है मतवाला मेरा रखवाला 
लाल लंगोटे वाला
ओ बाबा मेरा ये सालासर वाला 
ओ बाबा मेरा ये मेहंदीपुर वाला ||

बाण लगा जब लक्ष्मण जी को 
पर्वत धोला लाये उठा के 
राम प्रभु को धीर बँधाए 
लक्ष्मण जी के प्राण बचाए 
पवन वेग से उड़ने वाला 
पवन वेग से उड़ने वाला 
अद्भुत रूप निराला 
ओ बाबा मेरा ये सालासर वाला 
ओ बाबा मेरा ये मेहंदीपुर वाला 
है मतवाला मेरा रखवाला
लाल लंगोटे वाला 
ओ बाबा मेरा ये सालासर वाला 
ओ बाबा मेरा ये मेहंदीपुर वाला ||

भक्त पुकारे जब कोई सच्चा 
महाबली जी करते रक्षा 
भूत पिशाच निकट नहीं आवे 
महावीर जो नाम सुनावे 
प्रकट कृपाला दीनदयाला 
प्रकट कृपाला दीनदयाला 
जग में करे उजाला 
ओ बाबा मेरा ये मेहंदीपुर वाला 

है मतवाला मेरा रखवाला 
लाल लंगोटे वाला 
ओ बाबा मेरा ये सालासर वाला 
ओ बाबा मेरा ये मेहंदीपुर वाला ||

है मतवाला मेरा रखवाला 
लाल लंगोटे वाला 
ये सालासर वाला 
ये मेहंदीपुर वाला
रोम रोम राम बसाए 
जपत राम की माला
ओ बाबा मेरा ये सालासर वाला 
ओ बाबा मेरा ये मेहंदीपुर वाला ||

हनुमान भजन (2) Hanuman Bhajan Lyrics :- 

जय जय जय हनुमान जी राम राम

सोने के सिंगासन पर बेठे मेरे राम जी,
चरणों में बेठे हनुमान जी राम राम,
जय जय जय हनुमान जी राम राम

केसर तिलक लगये मेरे राम जी,
लाल सिंदूर हनुमान जी राम राम,
जय जय जय हनुमान जी राम राम,

कोशालिया नंदन कहाए मेरे राम जी,
अनजानी के लाल हनुमान जी राम राम,
जय जय जय हनुमान जी राम राम

सारी रामायण में है मेरे राम जी,
सुंदरकांड हनुमान जी राम राम,
जय जय जय हनुमान जी राम राम

मुक्ति के दाता है देखो मेरे राम जी,
भगती के दाता हनुमान जी राम राम,
जय जय जय हनुमान जी राम राम

पिला पीताबर पहने मेरे राम जी,
लाल लंगोट हनुमान जी राम राम,
जय जय जय हनुमान जी राम राम

फल और मेवा खाए मेरे राम जी,
लादूवन का भोग हनुमान जी राम राम,
जय जय जय हनुमान जी राम राम

सरे जगत के मालिक मेरे राम जी,
हमारे तो मालिक हनुमान जी राम राम,
जय जय जय हनुमान जी राम राम ||

हनुमान भजन (3) Hanuman Bhajan Lyrics :- 

राम गुण गा लो जी,
बाबा का दर्श जो पाना,
और जीवन को सफल बनाना,
राम गुण गा लो जी,

बाबा प्रशन हो जाते राम गुण गाने से,
बिगड़े काम बन जाते राम गुण गाने से,
बाबा शिव शंकर अवतारी और भगतो के हो हित कारी,
राम गुण गा लो जी,

गुण गाया हनुमत प्यारे हिरदये में वसाया था,
सीना फाड़ के दर्शन राम सिया का करवाया था,
हो राम चन्द्र के प्यारे सिया मात के हो तुम हो दुलारे,
राम गुण गा लो जी,

तुलसी दास को दर्शन राम प्रभु का कराया था,
विश्ड़े सिया राम को तूने बाबा मिलाया था,
किये सभी राम के काम और नही किया अभिमान,
राम गुण गा लो जी,

अजर अमर होने का वर भी पाया था,
संकट में दिया था साथ राम मन भाया था,
ओ भगतो के रखवाले काज सब राम चन्द्र के सवारे,
राम गुण गा लो जी ||

हनुमान भजन (4) Hanuman Bhajan Lyrics : – 

बड़े बलि महान बलि वीर वर बलि-२
डंका तुम्हारे नाम का बजता गली-गली॥

बलि बलि बलि बलि, ऐ बसुर अंग बलि।
सदा तुम्हारी जय हो बजरंगबली।
भगवान रामचंद्र की भक्ति तुम्हे मिली।
दुश्मन की तोड़ देते हो गिन गिन के तुम नली॥
रणभूमि में जिस वक़्त गदा आपकी चली।
रावण के दल में मच गयी उस वक़्त खलबली-२
सुनकर दहाड़ मेरे बजरंग वीर की-२
आकाश डोल उठा और ये जमी हिली॥

ताकत तुम्हारी दुनिया में, सचमुच है बेमिशाल।
सूरज को निगल डाले तुम अंजनी के लाल॥
आँखे मिलाये तुमसे भला किसकी है मज़ाल।
भर्ता तुम्हारे नाम को सुनकरके स्वयं काल॥
जहां भी चरण धर दिए तुमने जलाल में।
वो धस गया जा करके फ़ौरन पाताल में-२
लंका जलाके तुमने पल भर में राख की-२
रावण के दिल के फिर को मुरझा गयी गली॥

पर्वत को जो उखाड़े वो, बजरंग आप है।
राहू को पछारे वो बजरंग आप है॥
लंका को जो उझाड़े वो बजरंग आप है।
झंडा विजय का गाड़े वो बजरंग आप है॥
संजीवन को लाये पर्वत उखाड़ कर।
भक्ति का दिए परिचय सीने को फाड़ कर-२
दुष्टों की कोई चाल कभी जिनपे ना चली-२
चर्चा है जिनका “शर्मा” घर-घर, गली-गली॥

हनुमान भजन ( 5 ) Hanuman Bhajan Lyrics :- 

जरा ये तो बता घाटे वाले 
तेरा जलवा कहाँ पर नहीं है
नजरो में है तेरा नजारा 
तेरा रुतबा भी कुछ कम नहीं है
जरा ये तो बता घाटे वाले 
तेरा जलवा कहाँ पर नहीं है ||

तर्ज : भर दो झोली मेरा या ……

आँख वालों ने है तुमको देखा 
कान वालों ने तुमको सुना है 
तेरा जलवा उसी ने है देखा 
जिनकी आँखों पे परदा नहीं है
जरा ये तो बता घाटे वाले 
तेरा जलवा कहाँ पर नहीं है ||

हम तो रहते है साँझ सवेरे 
तेरे हाथों में चौरासी के फेरे 
मुझे एक सहारा है तेरा 
मेरा दूजा सहारा नहीं है 
जरा ये तो बता घाटे वाले 
तेरा जलवा कहाँ पर नहीं है ||

तुझपे तो भी लुटाये अपनी हस्ती
लोग कहते है उसको दीवाना 
हमको एक डर है तुम्हारा 
हम ज़माने से डरते नहीं है
जरा ये तो बता घाटे वाले 
तेरा जलवा कहाँ पे नहीं है ||

जरा ये तो बता घाटे वाले 
तेरा जलवा कहाँ पे नहीं है 
नजरों में है तेरा नजारा 
तेरा रुतबा भी कुछ कम नहीं है 
जरा ये तो बता घाटे वाले 
तेरा जलवा कहाँ पे नहीं है ||

हनुमान जी के भजन(Hanuman Bhajan Lyrics) का गायन लयबद्धता के साथ करें | हनुमान जी में पूर्ण श्रद्धा को बनाये रखे | हनुमान जी आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करेंगे |