रात्रि में की गयी बजरंग बाण की यह सिद्धि, तंत्र का काम करती है |

By | July 19, 2017

रात्रि में बजरंग बाण पाठ करने की विधि :

आज के समय में हर मनुष्य किसी न किसी परेशानी से घिरा हुआ है | हर समाधान के बाद भी उसे कोई हल नही मिलता | पूजा -पाठ करने के बाद भी अभिष्ठ फल की प्राप्ति नही हो पाती है | पूजा – पाठ की भी एक विधि होती है अगर पूजा-पाठ विधि अनुसार नही की जाती है तो उसका फल आपको मिलता तो है किन्तु बहुत प्रयत्न के बाद मिलता है |

Bajrang Baan Siddhi

आज हम आपको हनुमान जी के बजरंग बाण के रात्रि में किये जाने वाले पाठ के विषय में बता रहे है | वैसे तो बजरंग बाण का नियमित रूप से पाठ आपको हर संकट से दूर रखता है | किन्तु अगर रात्रि में बजरंग बाण को इस प्रकार से सिद्ध किया जाये तो इसके चमत्कारी प्रभाव तुरंत ही आपके सामने आने लगते है | अगर आप चाहते है अपने शत्रु को परास्त करना या फिर व्यापर में उन्नति या किसी भी प्रकार के अटके हुए कार्य में पूर्णता तो रात्रि में बजरंग बाण पाठ को अवश्य करें |

विधि इस प्रकार है : –  

किसी भी मंगलवार को रात्रि का 11 से रात्रि 1 बजे तक का समय सुनिश्चित कर ले | बजरंग बाण का पाठ आपको 11 से रात्रि 1 तक करना है | सबसे पहले आप एक चौकी को पूर्व दिशा की तरफ स्थापित करें अब इस चौकी पर एक पीला कपडा बिछा दे | अब आप इस मंत्र को एक कागज पर लिख कर इसे फोल्ड करके इस चौकी पर रख दे | मंत्र इस प्रकार है : ॐ हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट् ” || 

अब आप चौकी के दायें तरफ एक मिटटी के दिए में घी का दीपक जला दे | आपको इस चौकी के सामने आसन पर बैठ जाना है | इस प्रकार आपका मुख पूर्व दिशा कर तरफ हो जायेगा और दीपक आपके बाएं तरफ होगा | अब आप परमपिता परमेश्वर का ध्यान करते हुए इस प्रकार बोले : – हे परमपिता परमेश्वर मै(अपना नाम बोले ) गोत्र (अपना गोत्र बोले ) आपकी कृपा से बजरंग बाण का यह पाठ कर रहा हु इसमें मुझे पूर्णता प्रदान करें | अब आप ठीक 11 बजते ही इस मंत्र का जाप शुरू कर दे ” ॐ हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट् ” इस मंत्र को आप 5 मिनट तक जाप करें, ध्यान रहे मंत्र में जहाँ पर फट शब्द आता है वहा आप फट बोलने के साथ -साथ  2 उँगलियों से दुसरे हाथ की हथेली पर ताली बजानी है |

अब आप 11 बजकर 5 मिनट से और रात्रि 1 बजे तक लगातार बजरंग बाण का पाठ करना प्रारंभ कर दे | ध्यान रहे बजरंग बाण पाठ आपको याद होना चाहिए | किताब से पढ़कर बिलकुल न करें |  जैसे ही 1 बजता है आप बजरंग बाण के पाठ को पूरा कर अब आप फिर से इस मंत्र ” ॐ हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट् ” का जाप 5 मिनट तक करें | अब आप कागज  पर   लिखे हुए मंत्र को जला दे | इस प्रकार आपका यह बजरंग बाण का पाठ एक ही रात्रि में सिद्ध हो जाता है | Video के लिए यहाँ click करें — Click Here 

    ⇒ || हनुमान चालीसा को एक ही दिन में सिद्ध करने की पूर्ण एवं सरल विधि ||

इस प्रकार सिद्ध किया गया यह बजरंग बाण पाठ आपके जीवन में चमत्कारिक प्रभाव दिखता है |

|| ॐ श्री हनुमते नमः ||


Loading...

12 thoughts on “रात्रि में की गयी बजरंग बाण की यह सिद्धि, तंत्र का काम करती है |

    1. TARUN SHARMA Post author

      हाँ , लडकियाँ भी इस साधना को कर सकती है |

      धन्यवाद
      अल्टीमेट ज्ञान

      Reply
    1. TARUN SHARMA Post author

      नहीं आपको बजरंग बाण सम्पूर्ण याद करना होगा ….

      Reply
  1. Mukul Shukla

    what if someone pledges to do it on regular basis for about 40days? can the person masturbate during those 40days??

    Reply
    1. TARUN SHARMA Post author

      हनुमान साधना में आपको पूर्ण रूप से ब्रह्मचर्य का पालन करना होगा |

      धन्यवाद्

      Reply
  2. rakesh tatiwal

    tarun ji रात्रि में की गयी बजरंग बाण की यह सिद्धि, तंत्र का काम करती है | इसमे बजरंग बाण का पाठ करने के बाद पाठ बरम को अर्पण करने है या नही

    Reply
  3. Rakesh Tatiwal

    tarun ji रात्रि में की गयी बजरंग बाण की यह सिद्धि, तंत्र का काम करती है | रक्षा कवच बनाना है या नही
    Please Tell Me

    Reply
    1. TARUN SHARMA Post author

      जी नहीं रक्षा कवच बनाने की कोई आवश्यकता नहीं है आप सीधे ही post में दी गयी विधि अनुसार आप यह साधना करें |

      धन्यवाद
      अल्टीमेट ज्ञान

      Reply
  4. Rakesh Tatiwal

    Tarun Ji । ॐ हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट् प्रयोग के टाइम इस मंत्र को एक बार बोलना हैं या 5 मिनट तक और सम्पूर्ण बजरंग बाण पड़ना हैं और फिर मंत्र बोलना हैं कृपया मुझे इसके बारे में बताये

    Reply
    1. TARUN SHARMA Post author

      आप अधिक जानकारी के लिए आचार्य जी से संपर्क कर सकते है :
      7027140920

      धन्यवाद
      अल्टीमेट ज्ञान

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *