Tag Archives: Bhairav Tantrik Yantra

हाथ से बनाये यंत्र और बाज़ार के यंत्र, दोनों में कौन से अधिक प्रभावी होते है ?

रेखाओं, अंको और बीज मन्त्रों का एक ऐसा योग जो किसी विशेष देव के लिए समर्पित हो, यंत्र कहलाता है | यंत्र के महत्व को यदि हम सामान्य शब्दों में समझने का प्रयास करें तो हम ऐसा कह सकते है कि यंत्र एक प्रकार से भक्त और देव के बीच संचार माध्यम का कार्य करता है | सभी… Read More »

सिद्ध बगलामुखी यंत्र | भोजपत्र पर निर्मित बगलामुखी यंत्र को सिद्ध करने की विधि

माँ बगलामुखी को स्तम्भन की देवी माना गया है | माँ बगलामुखी की उपासना बड़े-बड़े अटके कार्यों को सिद्ध करने हेतू प्राचीन काल से की जाती रही है | विशेष रूप से माँ बगलामुखी की उपासना रात्रि में करने का उल्लेख मिलता है | माँ बगलामुखी यंत्र/Siddha Baglamukhi Yantra  को सिद्ध कर घर में स्थापित कर नियमित रूप… Read More »

असितांग भैरव मंत्र व जप विधि | रोग से मुक्ति पाने हेतु करे प्रयोग

असितांग भैरव को भैरव का उग्र रूप माना गया है | ऐसा माना गया है कि इस रूप में भैरव की उपासना आपके भयंकर से भयंकर रोग को भी दूर कर सकती है |कलियुग के समय में भैरव उपासना विशेष रूप से फल प्रदान करने वाली मानी गयी है | मंत्र द्वारा असितांग भैरव की एक रात्रि की… Read More »

भोजपत्र पर निर्मित सूर्य यंत्र | रोग मुक्ति व यश पाप्ति हेतु घर में इस प्रकार करें स्थापित

जो जातक ज्योतिष में विश्वास रखते है उनके लिए यह पोस्ट बड़ा ही शुभ फल देने वाला हो सकता है | सम्पूर्ण ज्योतिष विद्या 9 ग्रहों पर आधारित है | सूर्य को सभी 9 ग्रहों में प्रधान माना गया है | इसे आत्मा का कारक माना गया है | शरीर के रोग, मान-सम्मान, यश प्राप्ति, सरकारी नौकरी ये… Read More »

भगवान श्री गणेश जी का सिद्ध चमत्कारी यंत्र

भगवान श्री गणेश हिन्दू धर्म में सबसे पहले पूजे जाने वाले देव है | जब भी किसी पूजा या अनुष्ठान की बात होती है तो सर्वप्रथम गणेश जी की पूजा की जाती है | भारत देश के दक्षिण क्षेत्र में गणेश जी की भक्ति बहुत अधिक होती है | वैसे तो सम्पूर्ण हिन्दू धर्म में गणेश जी सर्वप्रथम… Read More »