अप्सरा साधना विधि एवं लाभ | अप्सरा साधना से होती है जातक की सभी इच्छाएं पूर्ण

By | May 21, 2018

भगवान ने मनुष्य को हाथ-पैर और बुद्धि के साथ-साथ सीमित शाक्तियाँ ही प्रदान की है किन्तु इस बुद्धि का प्रयोग ठीक प्रकार से किया जाये तो यह मनुष्य को असीमित शक्तियों का मालिक बनाने के साथ-साथ स्वयं भगवान को जानने व उसे प्राप्त करने का मार्ग भी प्रदर्शित करती है | अध्यात्म की द्रष्टि से एक जातक का प्रमुख लक्ष्य धर्म का अनुसरण करते हुए अपने दायित्वों का निर्वाह कर मोक्ष की प्राप्ति करना है | धार्मिक द्रष्टि से साधना/(Apsara Sadhana Vidhi Mantra) का बहुत अधिक महत्व है | एक जातक को अद्भुत शक्तियों का मालिक बनाने में व सभी सुखों से परिपूर्ण करने में दैविक साधना चमत्कारिक परिणाम देती है |

apsara sadhana vidhi mantra

Apsara Sadhana Vidhi Mantra

अप्सरा साधना :-

हिन्दू धरम में बहुत सी ऐसी चमत्कारिक साधनाओं का विवरण मिलता है जिन्हें सिद्ध करने पर जातक बहुत सी चमत्कारिक शक्तियों का मालिक बन सकता है | अप्सरा साधना भी चमत्कारिक साधनाओं में से एक है जो ‘ आकर्षक व्यक्तित्व ‘ की चाह रखने वाले जातक की इच्छा को पूर्ण करती है | अप्सरा साधना में सफलता प्राप्त करने वाला जातक : सौंदर्य, रूप , यौवन व आकर्षण आदि स्वाभाविक रूप से प्राप्त कर लेता है | प्रेम संबंध में विफलता, विवाह में विलम्ब व भोग की प्राप्ति में भी अप्सरा साधना करना फलदायी माना गया है |

अप्सरा स्वर्गलोक की वे सुंदरियाँ है जो इंद्रदेव के दरबार में नृत्य कला व गायन करने के साथ-साथ इंद्रदेव के आदेश अनुसार समय-समय पर ऋषियों-मुनियों की तपस्या को अपने मोह जाल द्वारा भंग करने का कार्य भी करती रही है | और इसी कारण उन्हें समय-समय पर ऋषियों द्वारा श्राप का भाजन भी बनना पड़ा है | धर्म शास्त्रों में बहुत सी अप्सराओं का विवरण मिलता है जिनमें : घृताची, रंभा , उर्वशी, तिलोत्तमा, मेनका और कुंडा को प्रमुख माना गया है | उर्वशी अप्सरा को सबसे शक्तिशाली माना गया है व इसे सिद्ध करना थोडा कठिन भी है |

अप्सराएँ भी स्वयं में एक दैवीय शक्ति ही होती है जो जातक की हर इच्छा को पूर्ण कर सकती है | अप्सरा साधना पूर्ण होने पर ये प्रत्यक्ष रूप से जातक को दर्शन देती है व उसके अनुरूप उसकी सभी इच्छाओं की तृप्ति भी करती है | अप्सरा साधना को सिद्ध करने वाला जातक रूप,सौंदर्य, कला में तो स्वतः ही पारंगत हो जाता है इसके साथ ही अप्सरा उसकी सभी मनोकामना को भी पूर्ण करती है |

धर्म पुराणों के अनुसार अप्सरा साधना/(Apsara Sadhana Vidhi Mantra) सरल और अतिशीघ्र फल देने वाली साधना है | किन्तु वास्तविक द्रष्टि से देखा जाये तो साधना चाहे कोई भी हो उसमें सिद्धि प्राप्त करने में जातक को बड़ी-बड़ी परीक्षाओं से गुजरना पड़ता है | अप्सरा साधना में भी जातक की साधना को भंग करने के बार-बार प्रयास किये जाते है और अधिकांश जातक जरा सी भय की अनुभूति होते ही साधना को छोड़ देता है |

पूर्ण विश्वास, द्रढ़ संकल्प, एकाग्रता व योग्य गुरु का मार्गदर्शन ही साधना में सफल होने की कुंजी है | इसलिए किसी भी साधना को शुरू करने से पूर्व इन सभी बातों को जीवन में अपनाएँ व उसके पश्चात् ही साधना प्रारंभ करें |

किसी भी साधना को शुरू करने से लेकर पूर्ण करने तक एक साधू-संत की भांति जीवन व्यतीत करना चाहिए | इस दौरान अपनी इच्छाओं और वासनाओं पर नियंत्रण रखना जरुरी होता है |

Apsara Sadhana Vidhi Mantra

अप्सरा साधना विधि :-

घर में किसी एकांत कमरे का चुनाव करें | अब इस कमरे में पूर्व दिशा की ओर एक चौकी की स्थापना कर इस पर लाल वस्त्र बिछाएं | अप्सरा का चित्र इस चौकी पर स्थापित करें | इस चित्र पर फूलों का हार पहनाएं | अब आप चौकी के सामने आसन बिछाकर बैठ जाए | घी का दीपक जलाएं, पंचमेवा का प्रसाद रखे, एक लौटे में जल भरकर रखे |

मंत्र इस प्रकार है :-

” ॐ रं क्षं रंभे आगच्छ आगच्छ क्षं रं ॐ नमः “

हाथ में जल लेकर पहले संकल्प ले और फिर मंत्र जप शुरू करें | इस साधना में मंत्र जप की कोई सीमा नहीं है | इसलिए अपने सामर्थ्य अनुसार प्रतिदिन समान मात्रा में मंत्र जप करें | मंत्र जप के लिए स्फटिक की माला का प्रयोग करें | इस प्रकार सात दिनों तक इस कार्य को करने से अप्सरा प्रत्यक्ष रूप से जातक के सामने प्रकट होती है | उस समय जातक को अप्सरा के गले में गुलाब के फूलों की माला पहनाकर उसे अपने साथ रहने का वचन ले लेना चाहिए |

अन्य जानकारियाँ :-

अप्सरा साधना/(Apsara Sadhana Vidhi Mantra) शुरू करने से पहले ध्यान दे, आप जिस रूप में अप्सरा की आराधना करते है वह उसी रूप में आपको दर्शन देती है | अप्सरा साधना माँ रूप में, बहन के रूप में या पत्नी के रूप में की जा सकती है |

 

 

12 thoughts on “अप्सरा साधना विधि एवं लाभ | अप्सरा साधना से होती है जातक की सभी इच्छाएं पूर्ण

  1. Teetu

    Gori ji ko namaskar
    1)Goruji me ye jaana chahta ho panch mega kya hota hai
    2)or panch mega priti din new lgaane padenge
    3) iss matter ko bol kar saap saap ab aaj me wathsap me daal do
    4) maala kiski honi chaiye
    5)patni’behan,maa matlab
    6)mera name teetu hai
    7)mera watsap.no.8375037814

    Reply
    1. James

      श्रींमान आप के प्रशन से मुझे लग रहा है आप अभी साधक बनने योग्य नही है । पहले धर्म कर्म का अध्यन कीजिये
      गुरु जी ने बताई है कोन सी उपयोग में लेना है ।
      जैसे आप प्रतिदिन नया भोजन करते है तो साधना में भी रखना पड़ेगा न
      और बहन, पत्नी या माँ के रूप में अप्सरा को दर्शन देने का बचन लेते है

      Reply
  2. Virendra ghorprtapi

    Guru g nasmkar m ye jan na chahta hu k kya apsra sadhna krne k bad bachan magne k bad pura jivan apsra k sat hi bitana padega kya patni ka sat chut jayga kya

    Reply
    1. James

      नही वो एक देवी है जो आपके जीवन में प्रेम , उत्साह , आकर्षक आदि की उन्नित करती है । यदि आप शादीशुदा है तो आपकी पत्नी के प्रति देवी बहुत प्रेम बड़ा देगी । आपके बोलने के तरीके को इसा कर देगी जिससे लोग प्रभावित होंगे , ऐसा नही है की आपकी पत्नी की जगह देवी ले लेगी जे गलत बात है । आप उनको माँ के रूप में स्वीकार कीजिये । आपके जीवन को उन्नत कर देगी ।

      Reply
  3. keshawa Kumar Kushwaha

    किसी ने यह साधना सिद्धकी है

    Reply
  4. Anil kumar

    Guru ji l want to know how to do this sadhana what is the way to do this sadhana

    Reply
  5. Gitu

    Sadhna ka samay kya ho and iske side effect to nahi hai; yadi ghar per ekant n ho to kya ratri me kar sakte he krpya bataye dhanyawd

    Reply
  6. Utsav singh hada

    Guru ji prnaam apsra jaisa apne abi btaaya ki 6 type ki hoti ha to mujhe lgta ha ki ye shayad rambha ko sidh krne ka mantra ha aur sabi ko sidh krne ke mantra kya ha kya inko friend ke roop mein skanlp liya ja skta ha

    Reply
  7. Atharv Pandey

    गुरु जी ये साधाना दिन में करनी है या रात में।

    Reply

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *