भूत-प्रेत और ऊपरी बाधाओं की गिरफ्त से बचने के सरल उपाय

By | February 24, 2018

भूत-प्रेत और मृत्यु के बाद प्राप्त होने वाली सजाओं के विषय में गरुड़ पुराण में विस्तार से विवरण मिलता है | हिन्दू धरम के अनुसार जातक मृत्यु के पश्चात् कुछ समय के लिए भूत योनी , प्रेत योनी व पित्र योनी को प्राप्त होता है | जो जातक असमय मृत्यु को प्राप्त होते है और उनके परिवार जन उनकी आत्मा की शांति के लिए क्रियाएं नहीं करवाते है वे भूत-प्रेत योनी में विचरण करते है व अपनी अधूरी इच्छाओं को पूरा करने के लिए पृथ्वी पर ही विचरण करते है(Bhoot Pret se Mukti) |

bhoot pret se mukti kaise paye

भूत-प्रेत किन लोगों को अपनी गिरफ्त ले लेते है :-

यद्यपि भूत-प्रेत एक अद्रश्य उर्जा के रूप में इसी संसार में रहते है किन्तु इनके आस पास होने का अहसास कुछ ही लोगों को हो पाता है | धरम शास्त्रों के अनुसार जिस जातक के गण कमजोर होते है वे ही भूत-प्रेत जैसी नकारात्मक उर्जा को महसूस कर सकते है व शीघ्र ही इनके प्रभाव में भी आ जाते है | इसके अतिरिक्त कभी-कभी शारीरिक रूप से कमजोर व्यक्ति, बीमार व्यक्ति , मानसिक रूप से विकृत व्यक्ति और गर्भवती महिलायें भी भूत-प्रेत और ऊपरी बाधाओं की गिरफ्त में आ सकती है |

Bhoot Pret se Mukti :-

भूत-प्रेत भगाने के उपाय :-

भूत-प्रेत आदि एक बार जिस व्यक्ति को अपनी गिरफ्त में ले लेते है तो बड़ी ही मुश्किल से उसका पीछा छोड़ते है | ऐसा रोगी हर दिन जीवन से संघर्ष करता है | भूत-प्रेत को दूर भगाने के लिए तरह-तरह के उपाय करता है, सिद्ध स्थानों की तलास करता है , झाड-फूंक व तांत्रिकों के पास जाता है | आज हम आपको कुछ ऐसे सरल उपाय बताने जा रहे है जिनके प्रयोग से भूत-प्रेत दूर भागने लगते है |

  • 5 मुखी रुद्राक्ष की विधिवत पूजा करें व सावन माह, शिवरात्रि या सोमवार के दिन धारण करें | रोजाना रुद्राक्ष की पूजा करें इसे दूप-दीप दिखाएँ व ॐ नमः शिवाय मंत्र के 108 जप करें | रुद्राक्ष धारण करने से नकारात्मक शाक्तियाँ दूर रहती है | 5 मुखी राद्रक्ष के 3 मनके धारण करने से पूर्ण लाभ मिलता है | इसके साथ ही रुद्राक्ष धारण करने से मानसिक मनोबल भी मजबूत होता है |
  • जिन लोगों पर भूत-प्रेत का प्रभाव शीघ्र होने लगता है उन्हें हनुमान चालीसा या बजरंग बाण को सिद्ध अवश्य करना चाहिए | हनुमान चालीसा व बजरंग बाण को एक ही दिन में सिद्ध कैसे करते है इसके लिए आप ये post पढ़े : हनुमान चालीसा को एक ही दिन में सिद्ध करें 
  • हनुमान जी , माँ काली व भैरव की आराधना करने वाले जातक से भूत-प्रेत आदि स्वतः ही दूर होने लगते है |
  • हनुमान जी का ऐसा मंदिर जहाँ हनुमान जी की प्रतिमा को सिन्दूर का चौला चढ़ाया जाता हो, वहाँ सुबह-सुबह रोजाना जाए व हनुमान जी के चरणों से सिन्दूर लेकर तिलक करें साथ ही जय श्री राम के नाम का जप करें | समय-समय पर हनुमान जी को चौला चढ़ाएं व मंगलवार को व्रत रखे/Bhoot Pret se Mukti |
  • घर में सुबह-शाम धुप-दीप अवश्य लगाये व मंगलवार और शनिवार को घर में गुग्गल व लोहबाण की धूनी दे |
  • घर में समय-समय पर सुंदरकाण्ड का पाठ करते रहे व किसी जानकार पंडित द्वारा हवन आदि भी कराते रहे |

भूत-प्रेत के प्रभाव में आने से बचने के लिए, ये सावधानियाँ जरुर अपनाएं : –

  • शाम के समय घर से बाहर निकलते समय मीठा खाकर न निकले | विशेष रूप से सफ़ेद मीठी वस्तुएं तो भूलकर भी खाकर बाहर न जाए |
  • हाथों में या बालों में महेंदी लगाकर घर से बाहर न जाएँ |
  • होली, दिवाली के त्यौहार पर रात्रि को सुनसान चौराहे पर कदापि न जाए | इस दिन बहुत सी तांत्रिक गतिविधियाँ व टोटके किये जाते है |
  • भूत-प्रेत आदि की कहानियों में अधिक रूचि न ले व जितना हो सके इनके नाम से भी दूर रहे |
  • शाम के समय तेज गंध वाले परफ्यूम आदि लगाकर घर से बाहर न निकले |
  • ऐसे स्थान आदि से दूर रहे जहाँ कोई तांत्रिक अनुष्ठान आदि किये जाते हो |
  • किसी चौराहे आदि पर यदि कोई टोटका आपको दिखाई दे तो चुपके से उसे अनदेखा कर निकल जाये | टोने-टोटकों को कभी भी स्पर्श न करें व अपने पैर के नीचे न आने दे | यदि आपको दिखाई दे कि आपके सामने ही कोई व्यक्ति चौराहे पर टोटका करके जा रहा है तो आप उस चौराहे को तब तक पार न करें जब तक कि कोई अन्य व्यक्ति उस चौराहे को पार न कर ले |

अन्य जानकारियाँ :-

भूत-प्रेत और सभी नकारात्मक शक्तियों को दूर रखने में ये सभी उपरोक्त उपाय प्रभावी सिद्ध हो सकते है | इन्हें अपनाये और भूत-प्रेत आदि की गिरफ्त में आने से बचे | ये सभी उपरोक्त उपाय सामान्य स्थिति में तो प्रभावी सिद्ध हो सकते है किन्तु यदि समस्या गंभीर हो जाये तो रोगी को पास के किसी सिद्ध स्थान आदि का सहारा लेना चाहिए | उत्तर भारत में भूत-प्रेत(Bhoot Pret se Mukti) आदि से छुटकारा पाने के लिए मेहंदीपुर बालाजी (राजस्थान ) व सजाड़ा धाम जोधपुर(राजस्थान) बहुत प्रचलित है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *