Tag Archives: Mantra Siddhi

शास्त्रों के अनुसार मंत्र जप के समय मंत्र उच्चारण की विधियाँ

मंत्र जप के समय मंत्र का उच्चारण किस प्रकार किया जाये ? यह प्रश्न सभी साधकों के मन में अकस्मात ही उठने लगता है | शास्त्रों के अनुसार मंत्र जप चाहे वह सिद्धि प्राप्त करने के उद्देश्य से किये गये हो या फिर देव आराधना के उद्देश्य से, जिसमें मन्त्रों का उच्चारण किस स्वर में किया जाये यह… Read More »

इस Post को Share करें :

चन्द्र ग्रहण 27-28 जुलाई 2018 ! सिर्फ 3 घंटे में शाबर मंत्र सिद्ध करने का सुनहरा अवसर

चन्द्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण धार्मिक द्रष्टि से बहुत महत्व रखते है | ग्रहण काल का समय जहाँ गर्भवती महिलाओं , बीमार और वृद्धों के लिए अशुभ संकेत देने वाला माना गया है वहीं साधकों के लिए ग्रहण काल एक सुनहरे अवसर के रूप में आता है | बड़े-बड़े साधक लम्बे समय से ग्रहण काल का इन्तजार करते… Read More »

इस Post को Share करें :

माँ काली मंत्र को सिद्ध करने की सरल विधि | माँ काली मंत्र साधना

माँ काली को माँ के सभी रूपों में सबसे शक्तिशाली स्वरुप माना गया है | भय को दूर करने वाली , बुद्धि देने वाली , शत्रुओं का नाश करने वाली माँ काली(Maa Kali) की उपासना से सभी कष्ट स्वतः ही दूर होने लगते है | माँ काली की आराधना शीघ्र फल देने वाली है | शास्त्रों में वर्णित… Read More »

इस Post को Share करें :

मंत्र सिद्धि में गुरु की आवश्यकता क्यों होती है ?

मंत्र सिद्धि के लिए साधक को गुरु की नितान्त आवश्यकता होती है | इसलिए साधक अपने लिए सामर्थ्यवान गुरु की खोज करता है और चयन करता है | गुरु भी शिष्य की सुपात्रता से प्रभावित होने के उपरान्त ही अपना शिष्य स्वीकार करता है | जब गुरु साधक को अपना शिष्य बनाता है तभी वह शिष्य को दीक्षित… Read More »

इस Post को Share करें :

काल भैरव मंत्र साधना | काल भैरव मंत्र को सिद्ध करने की सरल व संशिप्त विधि |

भगवान शिव के रूद्र रूप कहे जाने वाले भैरव जी को वर्तमान समय में काल भैरव और बटुक भैरव के रूप में अधिक पूजा जाता है | जहाँ भैरव जी को बटुक भैरव के रूप में सौम्य और सात्विक माना गया है | वहीं काल भैरव के रूप में भैरव जी को उग्र और सभी तंत्र क्रियाओं के… Read More »

इस Post को Share करें :

साधना व मंत्र सिद्धि में ध्यान देने योग्य जरुरी बातें |

साधना की आवश्यकता क्यों ? :- साधना की क्या आवश्यकता है ? साधना क्यों करें ? वस्तुतः साधना ‘ ईश्वरत्व ‘ का बोध कराती है | आंतरिक सुप्त शक्तियों को जाग्रत करती है | जिनका सम्बन्ध अंडज (ब्रम्हांड ) से है | साधना करते समय साधक अपने अंदर स्थित जीव (सूक्ष्म तत्व ) को ‘ब्रह्म -रंध्र ‘ में… Read More »

इस Post को Share करें :

जानिए, मंत्र सिद्धि के समय मंत्र जप की सही विधि | मंत्र साधना के नियम |

धर्म शास्त्रों के अनुसार मंत्र उच्चारण द्वारा देव आराधना शीघ्र फलदायी है | मंत्रों में साक्षात् देव का वास होता है | हिन्दू सभ्यता में प्राचीन काल से ही मंत्र द्वारा देव आराधना कर उन्हें प्रसन्न किया जाता है | जीवन में आये घोर से घोर संकंट को भी मंत्र साधना द्वारा दूर किया जा सकता है |… Read More »

इस Post को Share करें :

बगलामुखी मंत्र साधना | बगलामुखी मंत्र सिद्धि | बगलामुखी यंत्र सिद्धि | जानिए, सरल विधि

माँ की दस महाविद्याओं में से 8वीं महाविद्या माँ बगलामुखी को स्तम्भन की देवी कहा गया है | कलियुग के समय में बगलामुखी की साधना(Baglamukhi Mantra hindi) से साधक के सभी कार्य शीघ्र सिद्ध होने लगते है | माँ बगलामुखी साधना के लाभ :- मारण , मोहन , उच्चाटन , वशीकरण , अनिष्ट ग्रहों की शांति , मनचाहे… Read More »

इस Post को Share करें :

Siddha Kunjika Stotram/ सिद्ध कुंजिका स्त्रोत मंत्र को सिद्ध करने की सरल विधि !

हिन्दू धरम एकमात्र ऐसा धरम है जिसमें जितना सम्मान और महत्व देव पूजा को दिया जाता है उतना ही सम्मान देवी पूजन को भी दिया जाता है | माँ दुर्गा को सबसे बड़ी शक्ति के रूप में पूजा जाता है | माँ दुर्गा के अनेक रूप है जिनका विस्तार से वर्णन मार्कण्डेय पुराण के अंतर्गत देवी महात्यम में… Read More »

इस Post को Share करें :

मंत्र सिद्धि व पूजा -पाठ में भय की अनुभूति होने पर सुरक्षा चक्र कैसे बनाये ?

कभी -कभी मंत्र सिद्धि के समय या फिर किसी विशेष पूजा -पाठ के समय भय की अनुभूति होने लगती है | ऐसे में साधक को बाहरी शक्तियां परेशान करने लगती है | सभी मंत्र सिद्धि में ऐसा नहीं होता है किन्तु कुछ मंत्र ऐसे होते है जिन्हें सिद्ध करते समय साधक से आस -पास नकारात्मक शक्तियां अपना प्रभाव… Read More »

इस Post को Share करें :