बीज मंत्र क्या है ? सभी देवों के बीज मंत्र और उनके उच्चारण से होने वाले लाभ

By | February 11, 2018

परमपिता परमेश्वर की कृपा से इस संसार में हर जीव की उत्पत्ति बीज के द्वारा ही होती है चाहे वह पेड़-पौधे हो या फिर मनुष्य योनी | बीज को जीवन की उत्पत्ति का कारक माना गया है | बीज मंत्र भी कुछ इस तरह ही कार्य करते है | हिन्दू धरम में सभी देवी-देवताओं के सम्पूर्ण मन्त्रों के प्रतिनिधित्व करने वाले शब्द को बीज मंत्र/Beej Mantra कहा गया है | सभी वैदिक मंत्रो का सार बीज मंत्रो को माना गया है | हिन्दू धरम में सबसे बड़ा बीज मंत्र ” ॐ ” है | अन्य शब्दों में बीज मंत्र किसी भी वैदिक मंत्र का वह लघु रूप है जिसे मंत्र के साथ प्रयोग करने पर वह उत्प्रेरक का कार्य करता है | बीज मंत्रों(Beej Mantra kya hai Beej Mantro ke Labh)को सभी मन्त्रों के प्राण के रूप में जाना जा सकता है जिनके प्रयोग से मन्त्रों में प्रबलता और अधिक हो जाती है |

Beej Mantra kya hai Beej Mantro ke Labh

बीज मंत्र कुछ इस प्रकार होते है :- ॐ, क्रीं, श्रीं, ह्रौं, ह्रीं, ऐं, गं, फ्रौं, दं, भ्रं, धूं, हलीं, त्रीं, क्ष्रौं, धं, हं, रां, यं, क्षं, तं ,  ये दिखने में छोटे से बीज मंत्र अपने अन्दर बहुत से शब्दों को समाये हुए है | उपरोत्क सभी बीज मंत्र अत्यंत कल्याणकारी है जो अलग-अलग देवी-देवताओं के प्रतिनिधत्व करते है |

Beej Mantra kya hai Beej Mantro ke Labh

बीज मंत्र जप के लाभ :-

बीज मंत्रों के जप से देवी-देवता अति शीघ्र प्रसन्न होकर अपने भक्त का उद्धार करते है | बीज मंत्रों का उच्चारण आपके आस-पास एक सकारात्मक उर्जा का संचार करता है | जीवन में आने वाले घोर से घोर संकट भी बीज मंत्रों के उच्चारण से दूर हो जाते है | किसी भी प्रकार के असाध्य रोग की गिरफ्त में आने पर , आर्थिक संकट आने पर, इनके अतिरिक्त समस्या कोई भी हो, बीज मंत्रों के जप से लाभ अवश्य प्राप्त होता है | बीज मंत्रों के नियमित जप से सभी पापों से मुक्ति मिलती है | ऐसा व्यक्ति सम्पूर्ण जीवन मृत्यु के भय से मुक्त होकर जीता है व अंत में मोक्ष को प्राप्त करता है |

बीज मंत्र /Beej Mantra :-

भगवान श्री गणेश का बीज मंत्र :-

सभी देवों में सबसे पहले पूजे जाने वाले देव श्री गणेश का बीज मंत्र ” गं ” है | इस बीज मंत्र के नियमित जप से बुद्धि का विकास होता है और घर में धन संपदा की वृद्धि होती है |

भगवान शिव का बीज मंत्र :-

भगवान शिव का बीज मंत्र है : – ” ह्रौं ” भगवान शिव के इस बीज मंत्र के जप से भोलेनाथ अतिशीघ्र प्रसन्न होते है | इस बीज मंत्र के प्रभाव से अकाल मृत्यु से रक्षा होती है व रोग आदि से छुटकारा मिलता है |

भगवान श्री विष्णु का बीज मंत्र :-

भगवान श्री विष्णु का बीज मंत्र ” दं ” है | जीवन में हर प्रकार के सुख और एश्वर्य की प्राप्ति हेतु इस बीज मंत्र द्वारा भगवान श्री विष्णु की आराधना करनी चाहिए | 

भगवान श्री राम का बीज मंत्र :-

भगवान श्री राम का बीज मंत्र ” रीं ” है जिसे भगवान श्री राम के मंत्र के शुरू में प्रयोग करने से मंत्र की प्रबलता और भी अधिक हो जाती है भगवान श्री राम के बीज मंत्र/Beej Mantra को इस प्रकार से प्रयोग कर सकते है : रीं रामाय नमः 

हनुमान जी का बीज मंत्र :-

भगवान श्री राम के परम भक्त हनुमान जी आराधना कलियुग के समय में शीघ्र फल प्रदान करने वाली है | ऐसे में बीज मंत्र द्वारा उनकी आराधना आपके सभी दुखों को हरने में सक्षम है | हनुमान जी का बीज मंत्र है :  ” हं ” |

भगवान श्री कृष्ण का बीज मंत्र :-

भगवान श्री कृष्ण का बीज मंत्र “ क्लीं ” है जिसका उच्चारण अकेले भी किया जा सकता है व भगवान श्री कृष्ण के वैदिक मंत्र के साथ भी | इस बीज मंत्र का प्रयोग  इस प्रकार से करें : ” क्लीं कृष्णाय नमः ” |

माँ दुर्गा का बीज मंत्र :-

शक्ति स्वरुप माँ दुर्गा का बीज मंत्र ” दूं ” जिसका अर्थ है : हे माँ, मेरे सभी दुखों को दूर कर मेरी रक्षा करो |

Beej Mantra kya hai Beej Mantro ke Labh

माँ काली का बीज मंत्र :-

जीवन से सभी भय , ऊपरी बाधाओं , शत्रुओं के छूटकारा दिलाने में माँ काली के बीज मंत्र द्वारा उनकी आराधना विशेष रूप से लाभ प्रदान करने वाली है | माँ काली का बीज मंत्र है : ” क्रीं ” |

देवी लक्ष्मी का बीज मंत्र :-

देवी लक्ष्मी को स्वाभाव से चंचल माना गया है इसलिए वे अधिक समय के लिए एक स्थान पर नहीं रूकती | घर में धन-सम्पति की वृद्धि हेतु माँ लक्ष्मी के इस बीज मंत्र द्वारा आराधना से लाभ अवश्य प्राप्त होता है | देवी लक्ष्मी का बीज मंत्र है : ” श्रीं ”  |

देवी सरस्वती का बीज मंत्र : –

माँ सरस्वती विद्या को देने वाली देवी है जिनका बीज मंत्र ” ऐं ” है | परीक्षा में सफलता के लिए व हर प्रकार के बौद्धिक कार्यों में सफलता हेतु माँ सरस्वती के इस बीज मंत्र/Beej Mantra का जप प्रभावी सिद्ध होता है | 

अन्य जानकारियाँ :-

परमपिता परमेश्वर ब्रह्म का बीज मंत्र :-

कुछ बीज मंत्र(Beej Mantra kya hai Beej Mantro ke Labh) ऐसे भी है जो सूचक है उस परमपिता परमेश्वर के जो समस्त ब्रम्हांड के रचियता , पालनकर्ता और रक्षक है | ये बीज मंत्र इस प्रकार है : ” ॐ ” खं ” कं ” | ये तीनों बीज मंत्र ब्रह्म वाचक है |

9 thoughts on “बीज मंत्र क्या है ? सभी देवों के बीज मंत्र और उनके उच्चारण से होने वाले लाभ

  1. GYANDAS DHANDI

    GREAT INFORMATION……TRUE ……PLEASE GIVE MORE DETAILED KNOWLEDGE ON BEEJMANTRAS.
    THANK YOU,
    REGARDS.

    Reply
  2. Bipin Chandra Pandey

    Divine faith is the ultimate way of Bhakti and emancipation.

    Reply
  3. Ramesh giri.

    Thanks for toking with me for mantrajap on chandra grahan. Pranam guruji.

    Reply
  4. mohan lal

    guruji beej manter paryog kese kiya jata h bhagwan shiv ka beej manter sahit pooran mantar bataye please

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *