भगवान शिव के इस सर्व शक्तिशाली मंत्र से सभी कष्ट स्वतः ही दूर होने लगते है |

By | May 12, 2021

हिन्दू धर्म में भगवान् शिव को सर्व शक्तिमान माना गया है | भगवान शिव कि भक्ति करने वाले जातक सदैव सुखी जीवन व्यतीत करते है | आप में से शायद ही ऐसा कोई हो जिसने भगवान शिव के इस मंत्र के विषय में न सुना हो | जी हाँ, आज हम आपको एक ऐसे मंत्र की महिमा के विषय में जानकारी देने वाले है जो सभी मन्त्रों में सर्व शक्तिशाली है | इस मंत्र का जप करने से मन को शांति व भगवान शिव की विशेष कृपा प्राप्त होती है |

भगवान शिव का शक्तिशाली मंत्र :

ॐ नमः शिवाय

Bhagwan Shiv ka Best Mantra

Bhagwan Shiv ka Best Mantra :

शास्त्रों में उल्लेखित सभी पदों के अनुसार यह मंत्र इतना शक्तिशाली और ऊर्जा से परिपूर्ण है की जो भी मनुष्य या जिव इस मंत्र का उच्चारण करता है उसके दुखों और विनाश का नाश होता है। उसकी सारी मनोकामनाएं पूरी होती है। शिव अर्थात कल्याणकारी लिंग अर्थात सृजन। सृजनहार के रूप में उत्पादक शक्ति के चिन्ह के रूप में ही शिवलिंग की पूजा की जाती है। भगवान शिव के पूजा करने में इस मंत्र का उच्चारण होता है।

आज हम आपको भगवान शिव के इस मंत्र के विशेष जप करने के विषय में जानकारी देने वाले है जिसके लिए किसी विशेष पूजा या विशेष स्थान की आवश्यकता नहीं है | रात्रि को सोते समय एक समय निश्चित कर ले | जैसे रात्रि 10 से 11 के मध्य कोई भी समय | प्रतिदिन जमीन पर आसन बिछाकर आपको भगवान शिव के इस मंत्र के जप करने है | मंत्र जप में किसी प्रकार की शीघ्रता न करें | मंत्र जप करते समय आपके मुख से निकलने वाली ध्वनि सिर्फ इतनी ही होनी चाहिए कि वह आपके कानों तक ही पहुंचे |

मंत्र जप शुरू करने से पहले भगवान श्री गणेश जी का ध्यान करना चाहिए | इसके पश्चात् भगवान शिव से अपने विशेष कार्य की पूर्णता हेतु मन में अरदास लगाते हुए मंत्र के जप शुरू करने चाहिए | मंत्र के जप आप माला की सहायता से भी कर सकते है या माला के बिना भी | मंत्र जप के समय आपके भाव भगवान शिव के प्रति पूरी तरह समर्पित होने चाहिए | इस प्रकार से मंत्र के जप आप 15 मिनट से लेकर 30 मिनट तक कर सकते है  | प्रतिदिन ठीक उसी समय पर निश्चित समय के लिए ही मंत्र जप करने चाहिए |

इस प्रकार से यदि आप 41 दिन लगातार भगवान शिव के मंत्र का जप कर लेते है तो आपके घर में सुख-शांति व धन-वैभव की वृद्धि होने लगती है | 41 दिन पूर्ण करने के पश्चात् किसी योग्य पंडित द्वारा घर पर हवन का आयोजन करने से विशेष लाभ की प्राप्ति होती है |