जीवन में लक्ष्य के महत्व को समझे | बिना लक्ष्य के जीवन का मूल्य

By | February 11, 2021

मनुष्य जीवन बड़ा मूल्यवान है | धार्मिक मान्यताओं की माने तो, मनुष्य जीवन प्राप्त होने के पीछे आपके पूर्वजन्म के अच्छे कर्म है | सभी योनियों में मनुष्य जीवन प्राप्त होना श्रेष्ट समझा जाता है | जब मनुष्य के रूप में जीवन प्राप्त करना इतने सौभाग्य की बात है तो इसे व्यर्थ कैसे गवायाँ जा सकता है | आप सोच रहे होंगे की बिना लक्ष्य के जीवन व्यर्थ कैसे हुआ ? आइयें जानने का प्रयास करते है इस पोस्ट के माध्यम से |

मनुष्य जीवन का महत्व :

इस धरा पर अनगिनत जीव रहते है जिनमें मनुष्य प्रधान है | कुछ धार्मिक मान्यताओं की माने तो, मनुष्य जीवन लाखों योनियों में जीवन व्यतीत करने के पश्चात् प्राप्त होता है | मनुष्य के रूप में जीवन मिलना इतना अधिक महत्व रखने वाला है तो कोई मूर्ख ही होगा जो इसे व्यर्थ जाने देगा | स्वयं के जीवन के महत्व को समझने का प्रयास करें और लक्ष्य बनाकर उसे प्राप्त करने का प्रयास करें |

जीवन में लक्ष्य रखने का महत्व :

कुछ लोग सोच रहे होंगे की जब जीवन बिना कुछ करें ही खुशहाल जा रहा है तो हमें किस लक्ष्य की आवश्यकता है | हमें तो इसे ही आनंद मिल रहा है जीवन में | हमें किसी प्रकार के लक्ष्य की जरुरत नहीं है | हम ऐसे ही खुश है | समाज के ऐसे लोगों के विषय में मेरी व्यक्तिगत राय है, बिना लक्ष्य के तो अन्य जीव जंतु व पशु आदि भी रहते है और शायद वे खुश भी रहते हो किन्तु यह उनके लिए सही है, मनुष्य के लिए कदापि नहीं | यदि आपके जीवन में कोई लक्ष्य नहीं है ऐसे ही जीवन जिए जा रहे है तो आपमें और किसी पशु में कोई अंतर नहीं रह जाता |

जरा सोचिये आदिकाल से मनुष्य भी पशुओं की तरह ही बिना किसी लक्ष्य के जीवन जीने में लगा रहता तो आज आप अपने आस पास यह आन्दीय व भोगयुक्त वस्तुएं देख पा रहे है इनका आनंद उठा पा रहे है क्या यह संभव हो पाता | यदि मनुष्य के जीवन में आदिकाल से ही कोई लक्ष्य नहीं होता तो यह विश्व भी आज पहले जैसा ही रहने वाला था इसमें कोई बदलाव नहीं होने वाला था |

जीवन में लक्ष्य रखने से मिलने वाले लाभ :

उन्नति :  जीवन में उन्नति की सीढ़ी केवल और केवल लक्ष्य का सहारा लेकर ही प्राप्त की जा सकती है | यदि आप किसी एक लक्ष्य को प्राप्त करके रुक जाते है तो समझ जाये आपकी उन्नति भी यहीं रुकने वाली है | हाँ, आपकी उन्नति के मार्ग स्वतः ही खुलते रहेंगे जब तक एक के बाद एक लक्ष्य जीवन में निर्धारित कर उन्हें प्राप्त करने हेतु प्रयासरत रहेंगे |

समाज में प्रतिष्ठा : आज के आधुनिक युग में समाज में मान-सम्मान उन्हें ही मिलता जो इसके हकदार होते है | इसके लिए आपको न केवल कठोर मेहनत करनी होगी बल्कि अपने आचरण को साफ़-सुथरा रखने की आवश्यकता होगी | यह समाज सफल लोगों को इज्जत देता है | असफल व्यक्ति केवल और केवल भीड़ का हिस्सा बनकर रह जाते है | आगे वे निकलते है जो सफल होते है और सफलता का मूल मन्त्र : लक्ष्य और मेहनत ही है |

जीवन में लक्ष्य के महत्व को समझे | छोटे से लेकर बड़े सभी कार्य को के लिए पहले लक्ष्य का निर्धारण करना अनिवार्य है | हाँ, लक्ष्य के निर्धारण मात्र से ही सफलता प्राप्त नहीं होने वाली है | इसके लिए आपको उचित समझ के साथ-साथ कठिन मेहनत भी करनी होगी | ऐसा करने से आप न केवल स्वयं का विकास कर पाएंगे बल्कि समाज और देश के विकास में भी अपना योगदान देने में समर्थ हो सकेंगे |