इन लोगों में हार्ट अटैक की सम्भावना बहुत अधिक होती है |

By | April 2, 2018

हार्ट अटैक की बीमारी ने वर्तमान समय में इतना विकराल रूप धारण कर लिया है कि आज लगभग 25% लोग हार्ट अटैक के कारण मृत्यु के शिकार हो रहे है | क्या आपने कभी सोचा है कि पहले और वर्तमान समय में ऐसा क्या बदलाव आया है जो अधिकतर लोग हार्ट अटैक का शिकार हो रहे है | इसका प्रमुख कारण मशीनीकरण के कारण आलस्य भरा जीवन व आहार में आया बदलाव है | मशीनीकरण के कारण लोगों को मेहनत करने की आदत ही छूट गयी जिससे हार्ट की समस्या(Heart Attack Ki Adhik Sambhavana)  भी बढ़ने लग गयी और दूसरा आहार में इतना बदलाव आ गया है कि खाने में पौष्टिक चीज़े तो न के बराबर होती है, खाने-पीने की आदत में आया बदलाव भी हार्ट अटैक के प्रमुख कारणों में से एक है |

Heart Attack Ki Adhik Sambhavana

Heart Attack Ki Adhik Sambhavana

इन लोगों में हार्ट अटैक की सम्भावना अधिक होती है :-

जेनेटिक कारण :-

हार्ट अटैक होने का कारण जेनेटिक भी हो सकता है | जिन लोगों के माता-पिता की मृत्यु यदि हार्ट अटैक से हुई है तो उनके पुत्र व पुत्री को भी हार्ट अटैक की समस्या हो सकती है |

मोटापा :-

कुछ लोग बचपन से ही खेल-कूद व व्यायाम आदि के प्रति कम रूचि रखते है व किशोर अवस्था में ही मोटापे को जन्म दे बैठते है | ऐसे लोगों को अपने स्वास्थ्य के प्रति अधिक लागाव नहीं होता व लगातार जंक फ़ूड व तैलीय भोजन करते रहते है | जिसके फलस्वरूप उन्हें BP, शुगर व कोलेस्ट्राल की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है | ये सभी बीमारियाँ ही हार्ट अटैक का मूल कारण बनती है |

बढ़ती उम्र :-

उम्र का बढ़ना भी हार्ट अटैक की समस्या को जन्म दे सकता है | एक शोध में पाया है कि कम उम्र में हार्ट अटैक की समस्या बहुत कम होती है जबकि 45 वर्ष की आयु के बाद यह समस्या बढ़ने लग जाती है |

धूम्रपान करना :-

धूम्रपान करने वाले लोगों में हार्ट अटैक आने की संभावना/Heart Attack Ki Adhik Sambhavana सबसे अधिक होती है | जो लोग अधिक धूम्रपान करते है उनकी हार्ट से ब्लड पहुँचाने वाली नर्व्स ब्लाक हो जाती है जिसके कारण हार्ट अटैक होता है |

शुगर व हाई ब्लड प्रेशर :-

जिन लोगों में शुगर की समस्या लम्बे समय से है उनमें हार्ट अटैक आने की समस्या बढ़ जाती है | साथ ही हाई ब्लड प्रेशर वाले रोगी भी बढ़ते कोलेस्ट्राल के कारण हार्ट अटैक से पीड़ित हो सकते है |

अन्य जानकारियाँ : –

आरामपरस्त जीवन जीने वाले लोग :-

जो लोग मेहनत करना पसंद नहीं करते व सदा आलस्य भरा जीवन व्यतीत करते है उनके द्वारा आहार में ली गयी वसा( चिकनाई) पूर्ण रूप से digest नहीं हो पाती व हार्ट की धमनियों में जमना शुरू हो जाती है ऐसे लोगों को भी हार्ट अटैक होने का खतरा/Heart Attack Ki Adhik Sambhavana बढ़ जाता है |

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *